19 Nov 2019, 10:38 HRS IST
  • सबरीमला मामला- न्यायालय ने पुनर्विचार के लिए समीक्षा याचिकाएं सात न्यायाधीशों की पीठ के पास भेजी
    सबरीमला मामला- न्यायालय ने पुनर्विचार के लिए समीक्षा याचिकाएं सात न्यायाधीशों की पीठ के पास भेजी
    करतारपुर गलियारे का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों सिखों के लिये पासपोर्ट जरूरी नहीं - पाक
    करतारपुर गलियारे का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों सिखों के लिये पासपोर्ट जरूरी नहीं - पाक
    झारखंड में पांच चरणों में मतदान, 23 दिसंबर को मतगणना
    झारखंड में पांच चरणों में मतदान, 23 दिसंबर को मतगणना
    आईएसआईएस का सरगना बगदादी अमेरिकी हमले में मारा गया: ट्रंप
    आईएसआईएस का सरगना बगदादी अमेरिकी हमले में मारा गया: ट्रंप
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम मुलाकात
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
    • मुलाकात
    • रेटिंग   Rating Rating Rating Rating Rating
  •  
  • विश्व मधुमक्खी दिवस पर मधुमक्खी पालन के बारे में जागरूकता फैलाने का संकल्प
  • [ - ] आकार [ + ]
  •                                                            राजेश अभय

    नयी दिल्ली, 21 अगस्त : भाषा : विश्व मधुमक्खी दिवस देश में काफी धूमधाम से मनाया गया और राष्ट्रपति भवन में इस मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में विशेषज्ञों और किसानों ने देश भर में मधुमक्खीपालन के बारे में जागरूकता फैलाने का संकल्प लिया।
    विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंसटीन ने कहा था कि अगर मधुमिक्खयां पृथ्वी से समाप्त हो जायें तो चार साल में मानव जाति का अस्तित्व दुनिया से मिट जायेगा। संभवत: उन्होंने यह बात मधुमक्खियों के द्वारा किये जाने वाले पर परागण को लेकर कही थी, जो खाद्यान्न उत्पादन के लिए बेहद जरूरी माना जाता है। परागण का काम हवा के जरिये भी होती है, पानी के द्वारा भी, लेकिन इसमें सबसे बड़ी भूमिका मधुमक्खियां की होती हैं।
                                               राजधानी दिल्ली में इस मौके पर 18 अगस्त को वित्त मंत्रालय, नीति आयोग और कृषि मंत्रालय की ओर से पूसा संस्थान में कार्यक्रम आयोजित किये गये। पूसा में आयोजित कार्यक्रम में देश भर से मधुमक्खीपालन क्षेत्र से जुड़े किसानों ने भाग लिया। नीति आयोग में आयोजित कार्यक्रम का उद्घाटन वहां के प्रधान सलाहकार रतन पी वाटल ने किया। इसमें आयोग के अधिकारियों और कर्मचारियों को शहद के साथ साथ मधुमक्खीपालन के फायदों के बारे में बताया गया।
                                               राष्ट्रपति भवन में भी 19 अगस्त को एक बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम :एमएसएमई: मंत्री कलराज मिश्र, एमएसएमई राज्यमंत्री गिरिराज सिंह, खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग के सीईओ अनिल कुमार अन्य अधिकारीगण और स्कूली बच्चे उपस्थित थे। इस मौके पर मधुमक्खीपालन क्षेत्र के कई उत्पादों की प्रदर्शनी भी वहां लगाई गई जिसका राष्ट्रपति ने अवलोकन किया और उनके बारे में जानकारियां लीं। राष्ट्रपति ने राष्ट्रपति भवन में लगाई गई लगभग 150 मधुमक्खी कॉलोनियों से भी मधुमक्खीपालन क्षेत्र के विभिन्न उत्पादों को तैयार कराने में रुचि दिखाई।
                                              इसके अलावा देश के लगभग 40 कृषि विश्वविद्यालयों और देश के लगभग सभी कृषि विज्ञान केन्द्रों :केवीके: में भी इसे मनाया गया।मधुमक्खीपालन दिवस मनाने की शुरुआत अमेरिका में वहां के मधुमक्खीपालकों ने की थी बाद में इसका विश्व दिवस मनाने का फैसला किया गया और भारत में पहली बार पिछले वर्ष इसे मनाया गया था। विश्व मधुमक्खी दिवस अगस्त महीने में तीसरे शनिवार को मनाया जाता है।

                                                इसे मनाने का मकसद लोगों में मधुमक्खीपालन के लाभ के बारे में जागरूकता पैदा करना है। मधुमक्खियां यूकीलिप्टस, लीची, जामुन, सरसों, अजवाइन, विभिन्न फूलों के रस से शहद तैयार करती हैं और पैदावार में भारी बढ़ोतरी करती हैं। राष्ट्रीय मधुमक्खी बोर्ड के कार्यकारिणी सदस्य देवव्रत शर्मा ने भाषा को बताया, ‘‘अगर हम खेती के साथ साथ मधुमक्खीपालन को बढ़ावा दें तो हमारी दलहनों और तिलहनों के मामले में आयात पर निर्भरता को पूरी तरह समाप्त किया जा सकता है। इसके साथ ही हम शुद्ध निर्यातक देश बनने की काबिलियत हासिल कर सकते हैं। ’’

                           ...

रेट दें
Submit
  • इस मुलाकात पर अपनी राय दें
  • अन्य मुलाकात
  •     
add