23 Jul 2019, 06:47 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम मुलाकात
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
    • मुलाकात
    • रेटिंग   Rating Rating Rating Rating Rating
  •  
  • भारत-नेपाल के रिश्तों में खटास की वजह रणनीतिक चूक : चौधरी
  • [ - ] आकार [ + ]
  •                                                                (सुभाष कुमार सुमन) 
                      नयी दिल्ली, 24 फरवरी  :  नेपाल के एकमात्र अरबपति उद्योगपति बिनोद चौधरी का मानना है कि हाल के समय में भारत और नेपाल के बीच संबंधों में जो खटास दिखाई देती है उसके पीछे भारत की रणनीतिक एवं राजनीतिक चूक प्रमुख वजह रही है। हालांकि, उनका मानना है कि दोनों पड़ोसियों के बीच बरसों पुराना दोस्ताना है और आपस में बैठकर किसी भी तरह के मतभेद या विवाद को आसानी से दूर किया जा सकता है। 
    नेपाल के अरबपति कारोबारी एवं पूर्व सांसद बिनोद चौधरी ने ‘भाषा’ से यहां विशेष बातचीत में ये विचार व्यक्त किये। नेपाल की सबसे बड़ी कंपनी सीजी कॉर्प ग्लोबल के चेयरमैन चौधरी ने ‘भाषा’ से कहा कि मधेशी आंदोलन के समय दोनों देशों की सीमा पर हुई बंदी ने आम जनमानस में भारत की छवि को प्रभावित किया है। उन्होंने कहा, ‘‘दशहरा, दीपावली के मौके पर माल की आपूर्ति बंद होने से आम लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ा।’’ 
    नेपाल के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री के.पी. ओली के भारत के बजाय चीन के प्रति झुकाव रखने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह सिर्फ ओली नहीं बल्कि पूरे नेपाल की स्थिति है। उन्होंने कहा, ‘‘नेपाल और भारत के बीच गलतफहमी की मुख्य वजह मधेशी आंदोलन के दौरान सीमा बंद किया जाना है। इसके कारण सिर्फ ओली ही नहीं बल्कि नेपाल में भारत के सबसे अच्छे दोस्तों का मन भी भारत के प्रति खट्टा हुआ है। नेपाल भूकंप की बर्बादी से जूझ रहा था और वैसे समय में आपूर्ति बंद कर दी गयी। भारत की तरफ से यह रणनीतिक चूक थी। नेपाल के चुनाव में जो परिणाम सामने आये हैं वह इसीका नतीजा है।’’ 
    चीन के बढ़ते दबदबे के बाबत चौधरी ने कहा कि जब भी इस तरह की स्थिति बनती है तो दूसरे देश उसका फायदा उठाते ही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘भारत की तरफ से सीमा बंद किये जाने के बाद चीन ने दो जगह सीमाएं खोल दी। तीन सड़कों के माध्यम से चीन और नेपाल को जोड़ने की योजना चल रही है। रेलवे से भी दोनों देशों को जोड़ने की योजना है।’’ 
    उन्होंने कहा, ‘‘नेपाल आर्थिक, सांस्कृतिक, सामाजिक तौर पर भारत से जुड़ा है। दोनों देश स्वाभाविक मित्र हैं। भारत से नेपाल का हर तरह से जुड़ाव रहा है। उन्होंने संबंधों में जल्दी ही सुधार की उम्मीद जाहिर की। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए कहा, ‘‘मोदी ने ओली के प्रधानमंत्री बनने के बाद साहसिक कदम उठाते हुए तीन बार फोन पर बात की है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को भी उन्होंने नेपाल भेजा और खुद भी जल्दी ही दौरा करने वाले हैं।’’ 
    चौधरी ने कहा कि ये कदम काफी महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह तो स्वाभाविक है कि तकलीफ उसी से होती है जो करीब होता है। जो पुराने करीबी रहे हों उनके बीच मन भरने में भी मुश्किलें नहीं आती हैं।’’ 
    उल्लेखनीय है कि सीजी कॉर्प भारत में खाद्य, हॉस्पिटलिटी समेत विभिन्न क्षेत्रों में कारोबार करती है। घरेलू नूडल्स बाजार में कंपनी के उत्पाद वाई-वाई की 27 प्रतिशत हिस्सेदारी है। कंपनी राजस्थान में 1000 करोड़ रुपये के निवेश से फुड पार्क बना रही है। इसी सप्ताह कंपनी ने उत्तरप्रदेश निवेशक शिखर सम्मेलन के दौरान राज्य में 200 करोड़ रुपये निवेश करने की भी घोषणा की है।संपादकीय सहयोग :अतनु दास

रेट दें
Submit
  • इस मुलाकात पर अपनी राय दें
  • अन्य मुलाकात
  •     
add