15 Oct 2019, 19:29 HRS IST
  • मामल्लापुरम: भारत और चीन के बीच वार्ता का दृश्य
    मामल्लापुरम: भारत और चीन के बीच वार्ता का दृश्य
    नयी दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग के 14वें वार्षिक सम्मेलन में बोलते गृह मंत्री अमित शाह
    नयी दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग के 14वें वार्षिक सम्मेलन में बोलते गृह मंत्री अमित शाह
    मामल्लापुरम:चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के स्वागत में प्रस्तुति देते कलाकार
    मामल्लापुरम:चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के स्वागत में प्रस्तुति देते कलाकार
    मामल्लापुरम में सुबह का सैर करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    मामल्लापुरम में सुबह का सैर करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम मुलाकात
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
    • मुलाकात
    • रेटिंग   Rating Rating Rating Rating Rating
  •  
  • ‘मिस टनकपुर’ की अनोखी कहानी समाज पर कटाक्ष :कापड़ी
  • [ - ] आकार [ + ]
  • वैभव माहेश्वरी

    नयी दिल्ली, 31 मई :भाषा: पत्रकारिता के पेशे से फिल्म निर्माण में आना और पहली ही फिल्म के रिलीज से पहले बड़े नामचीन लोगों की तारीफ पाना विनोद कापड़ी को अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि लगती है जो एक अनोखी घटना से प्रेरित फिल्म ‘मिस टनकपुर हाजिर हों’ लेकर आ रहे हैं।
    टीवी पत्रकारिता में मेहनत करके चैनलों के लिए टीआरपी हासिल करने का अनुभव रखने वाले कापड़ी कहानी कहने की अपनी रचि को अब फिल्मों के जरिये पेश करना चाहते हैं और उनकी पहली फिल्म एक सच्ची घटना से प्रेरित है।
    उन्होंने बताया, ‘‘कुछ साल पहले एक खबर पढ़ी कि अदालत ने एक लड़के को भैंस के साथ बलात्कार करने के मामले में पांच साल की जेल की सजा सुनाई है। इस खबर के बारे में खोजबीन और पड़ताल की, वकीलों से मिले। मामला दिलचस्प लगा और इस घटना से प्रेरित होकर फिल्म लिखनी शुरू की।’’ कापड़ी के मुताबिक फिल्म सच्ची कहानी पर आधारित है, लेकिन फिल्मी रचनात्मकता की आजादी के साथ और हास्य व्यंग्य के साथ इसे तैयार किया गया है जो समाज पर कटाक्ष भी करती है।
    फिल्म बनाने की दिशा में उनका पहला कदम मशहूर फिल्मकार राजकुमार हिरानी की तारीफ और सलाह से प्रेरित था।
    कापड़ी ने ‘भाषा’ को बताया कि कुछ साल पहले उन्होंने एक चैनल में काम करते हुए अन्ना हजारे पर एक वृत्तचित्र बनाया। जिसके प्रसारण के अगले दिन हिरानी ने खुद फोन कर उसकी तारीफ की।
    उन्होंने बताया, ‘‘हिरानी ने मेरे कहानी कहने के तरीके की तारीफ की। वह बातचीत मेरे फिल्म बनाने की दिशा में आगे बढ़ने के लिए निर्णायक साबित हुई।’’

    कापड़ी के मुताबिक वह स्कूल-कॉलेज के समय में काफी कहानियां लिखते थे जो कई जगह प्रकाशित भी हुईं। लेकिन 22 साल के पत्रकारिता के दौर में उन्होंने पेशेवर व्यस्तता के चलते केवल एक कहानी लिखी। वह पिछले नौ-दस साल से फिल्म बनाने की सोच रहे थे, लेकिन हिरानी की सलाह ने पूरी तरह मन बनाने को मजबूर कर दिया। वह बताते हैं कि 2000 के दशक की शुरूआत में मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के कवरेज के दौरान भिंड के दौरे पर उन्हें एथलीट से दस्यु बने पान सिंह तोमर की कहानी पता चली थी और उन्होंने उस पर एक फीचर फिल्म बनाने के बारे में भी सोचा। वह इस पर काम शुरू नहीं कर पाये और कुछ साल बाद इस विषय पर फिल्म आ गयी।
    उन्होंने कहा, ‘‘मैंने सोचा कि लोग ऐसे विषयों पर फिल्म बना लेते हैं और लोग उन्हें पसंद करते हैं। और हम जोखिम लेने से डरते हैं।’’ बकौल कापड़ी उनकी पहली फिल्म के ट्रेलर लांच होने के बाद इसकी तारीफ में अभिनेता अमिताभ बच्चन, फिल्मकार हिरानी और फिल्म निर्देशक सुभाष कपूर जैसे जानेमाने लोगों के ट्वीट उन्हें प्रोत्साहित करते हैं।
    कापड़ी ने बताया कि उन्होंने करीब छह महीने पहले राजकुमार हिरानी से फोन पर बात कर कहा कि उनकी सलाह पर ही फिल्म बनाने का जोखिम लिया है, इसलिए उन्हें फिल्म देखकर बताना होगा कि कैसी बनी है।
    कापड़ी के मुताबिक, ‘‘हिरानी ने एक दिन अपने घर बुलाकर फिल्म देखी और देखने के बाद खड़े होकर मुझे गले लगाया। उन्होंने फिल्म की तारीफ करते हुए कहा कि कमाल का व्यंग्य रचा है। यह मेरे लिए सबसे बड़ी उपलब्धि है।’’ फॉक्स स्टार स्टूडियो के बैनर तले ‘मिस टनकपुर हाजिर हो’ 26 जून को रिलीज होगी।
    गांवों में महिलाओं के लिए शौचालय की कमी के गंभीर सामाजिक विषय पर अपनी डॉक्यूमेंट्री के लिए हाल ही में राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से नवाजे गये कापड़ी की दूसरी फिल्म ‘पीहू’ की शूटिंग हो चुकी है। यह भी वास्तविक कहानी पर आधारित फिल्म है जो दो साल की बच्ची के इर्दगिर्द घूमती है।

रेट दें
Submit
  • इस मुलाकात पर अपनी राय दें
  • अन्य मुलाकात
  •     
add