29 Jun 2017, 00:25 HRS IST
  • वॉशिंगटन: मीडीया के सामने साझा वक्तव्य जारी करते मोदी—ट्रंप
    वॉशिंगटन: मीडीया के सामने साझा वक्तव्य जारी करते मोदी—ट्रंप
    मुंबई: भारी बारिश के बाद पानी से भरी गली से गुजरते लोग
    मुंबई: भारी बारिश के बाद पानी से भरी गली से गुजरते लोग
    हैदराबाद: किदांबी श्रीकांत संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए
    हैदराबाद: किदांबी श्रीकांत संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए
    जम्मू : अमरनाथ तीर्थ बोर्ड द्वारा चिकित्सा शिविर का आयोजन
    जम्मू : अमरनाथ तीर्थ बोर्ड द्वारा चिकित्सा शिविर का आयोजन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम मुलाकात
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
    • मुलाकात
    • रेटिंग   Rating Rating Rating Rating Rating
  •  
  • सरबजीत पर फिल्म से कैदियों का दुखदर्द आएगा सामने: बहन
  • [ - ] आकार [ + ]
  • .                                                       

    चंडीगढ़, 11 जून :भाषा: वर्ष 2013 में पाकिस्तानी जेल में नृशंस हमले में मारे गए सरबजीत सिंह के जीवन पर बनने जा रही फिल्म का ‘मैरी कॉम’ के फिल्मकार उमंग कुमार द्वारा निर्देशन किए जाने के बीच सिंह की बहन ने आज कहा कि उन्हें आशा है कि इस फिल्म से सीमापार विभिन्न जेलों में बंद कैदियों के दुखदर्द सामने आएगा।
    पाकिस्तानी जेल से अपनी भाई को छुड़ाने के लिए वषरें तक संघर्ष करने वाली दलबीर कौर ने कहा, ‘‘मैं आशा करती हूं कि यह फिल्म पाकिस्तान की जेलों में बंद कैदियों का दुखदर्द सामने लाएगी। ’’ लाहौर जेल में अप्रैल, 2013 में कैदियों ने सरबजीत सिंह पर घातक हमला किया था, जिसमें सिंह की मौत हो गयी थी।सरबजीत को वर्ष 1991 में पाकिस्तान की एक अदालत ने आतंकवाद एवं जासूसी करने के मामले में दोषी ठहराया था और मृत्युदंड सुनाया था।लेकिन पाकिस्तान सरकार ने वर्ष 2008 में उसकी सजा को तामील करने पर अनिश्चितकाल के लिए रोक लगा दी।उनकी बहन और उनके परिवार ने यह कहते हुए उनकी रिहाई के लिए मुहिम चलायी थी कि वह गलत पहचान के शिकार हो गए हैं और वह नशे की हालत में भूलवश भटकर सीमापार चले गए थे।दलबीर कौर ने कहा, ‘‘मैं जानती हूं कि यह फिल्म संवेदनशील विषय पर बनायी जा रही है क्योंकि इसमें दो देश शामिल हैं। लेकिन सच्चाई सामने आनी चाहिए। पाकिस्तानी जेलों में बंद हमारे बंदियों का दुखदर्द को सामने लाने की जरूरत है।’’ अमृतसर के भीखिविंड की रहने वाली दलबीर कौर ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘मुझ उम्मीद है कि जब यह फिल्म रिलीज होगी तब उसे बेहद सफलता मिलेगी।यदि एक भी कैदी को पाकिस्तानी जेल से रिहा किया जाएगा तो मैं सोचूंगी कि अपने भाई को रिहा कराने के लिए 23 साल का मेरा संघर्ष सफल रहा। सरबजीत जिंदा अपने घर लौट नहीं पाए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब मैं सरबजीत की रिहाई के लिए संघर्ष कर रही थी, तब मैं चाहती थी कि उसपर फिल्म बने ताकि इस मुद्दे पर दुनिया और लोगों का ध्यान जाए तथा सीमापार की सरकार तथ्यों को उसी रूप में समझें जैसे वे हैं। हमने तीन साल पहले सुभाष घई से इस बारे में बात की थी लेकिन तब दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी और हम सरबजीत को गंवा बैठे। ’’ उन्होंने कहा कि फिल्म के रिलीज होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उसे देखना चाहिए।जब दलबीर कौर से पूछा गया कि क्या किन्हीं नामों का चयन हुआ है, तो उन्होंने कहा, ‘‘उमंग कुमार फिलहाल मलेशिया में हैं।उन्होंने टेलीफोन पर मुझे कहा कि उनका किरदार करने वाली अभिनेत्री का शीघ्र ही चयन होगा। ’’ उन्होंने बताया कि वैसे सोनाक्षी सिन्हा, कंगना रणौत , दीपिका पादुकोण, प्रियंका चोपड़ा आदि के नामों की चर्चा है।संपादकीय सहयोग अतनु दास

रेट दें
Submit
  • इस मुलाकात पर अपनी राय दें
  • अन्य मुलाकात
  •     
add