15 Nov 2019, 00:11 HRS IST
  • सबरीमला मामला- न्यायालय ने पुनर्विचार के लिए समीक्षा याचिकाएं सात न्यायाधीशों की पीठ के पास भेजी
    सबरीमला मामला- न्यायालय ने पुनर्विचार के लिए समीक्षा याचिकाएं सात न्यायाधीशों की पीठ के पास भेजी
    करतारपुर गलियारे का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों सिखों के लिये पासपोर्ट जरूरी नहीं - पाक
    करतारपुर गलियारे का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों सिखों के लिये पासपोर्ट जरूरी नहीं - पाक
    झारखंड में पांच चरणों में मतदान, 23 दिसंबर को मतगणना
    झारखंड में पांच चरणों में मतदान, 23 दिसंबर को मतगणना
    आईएसआईएस का सरगना बगदादी अमेरिकी हमले में मारा गया: ट्रंप
    आईएसआईएस का सरगना बगदादी अमेरिकी हमले में मारा गया: ट्रंप
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम मुलाकात
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
    • मुलाकात
    • रेटिंग   Rating Rating Rating Rating Rating
  •  
  • चुनावों में कटुता के लिए कांग्रेस अध्यक्ष जिम्मेदार : राजनाथ
  • [ - ] आकार [ + ]
  • कि इस बार संख्या 72 कतई न हो । भाजपा को शानदार सफलता मिलेगी। ’’ 
    गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्तरप्रदेश में भाजपा नीत गठबंधन को 80 में से 73 सीटों पर जीत हासिल हुई थी जिसमें से भाजपा को 71 सीट मिली थी । 
    उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने जाति एवं पंथ से परे हटकर सामाजिक कल्याण की योजनाओं को जमीन पर उतारा है जिसका फायदा नीचे तक पहुंचा है । 
    यह पूछे जाने पर कि अगर भाजपा 272 के जादुई अंक को नहीं हासिल कर पाती है तब क्या वे क्षेत्रीय दलों के सहयोग से प्रधानमंत्री पद के लिए आमसहमति के उम्मीदवार होंगे, राजनाथ ने कहा कि उन्होंने कभी किसी पद की लालसा नहीं की और पार्टी के निर्णय का पालन किया । 
    सिंह ने जोर दिया कि नरेन्द्र मोदी के अलावा किसी और के प्रधानमंत्री बनने का कोई सवाल ही नहीं है । ‘‘ मोदी जी युवा है, ऊर्जावान हैं, दूरदर्शी हैं और इसलिये उनके उत्तराधिकारी का कोई सवाल ही नहीं है । ’’ 
    पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रदर्शन के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा, ‘‘ हम वहां बड़ी जीत दर्ज करने जा रहे हैं । अप्रत्याशित परिणाम आयेंगे । वहां 30 सीटें भी मिल सकती हैं । पश्चिम बंगाल में भाजपा की लहर है ।’’ उन्होंने उम्मीद जतायी कि पार्टी केरल में भी खाता खोलेगी । 
    चुनाव में बालाकोट हवाई हमले की पृष्ठभूमि में राष्ट्रवाद को मुख्य मुद्दा बनाये जाने के बारे में एक सवाल के जवाब में गृह मंत्री ने कहा कि राष्ट्रवाद हमारे लिये चुनावी मुद्दा नहीं बल्कि हमारी प्राथमिकता है ।

    उन्होंने कहा कि सेना के जवानों ने शौर्य और पराक्रम किया है तो प्रशंसा करना क्या अपराध है ? केवल चुनाव के दौरान ही हम ऐसा नहीं कर रहे बल्कि पहले भी शौर्यगान करते रहे हैं । 
    यह पूछे जाने पर कि अगर कांग्रेस बालाकोट अभियान के लिये नरेन्द्र मोदी के बजाए सेना को श्रेय देती है तो इसमें गलत क्या है, राजनाथ ने कहा ‘‘ 1971 में इंदिरा गांधी ने भी पाकिस्तान के दो टुकड़े किये थे, ऐसा करने का काम सेना ने ही किया था, उनकी तारीफ हुई थी । विपक्ष के नेता के तौर पर अटल जी ने संसद में इसकी प्रशंसा की थी । तो इस बार पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया गया है तो श्रेय मोदीजी को क्यों न मिले । ’’ भाजपा नेता ने इस बात से इंकार किया कि उनकी पार्टी ने किसी की राष्ट्रभक्ति पर सवाल उठाया है । उन्होंने साथ ही कहा कि सेना कुछ पराक्रम करती है तो यहां भी लोगों को खुशी होनी चाहिए, गौरव की अनुभूति होनी चाहिए । 
    भाजपा नेता ने विधानसभा चुनाव में छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, राजस्थान में पार्टी की पराजय को तवज्जो नहीं देते हुए कहा कि इन राज्यों में भी लोकसभा चुनाव में अच्छे परिणाम आयेंगे ।

    भाजपा अध्यक्ष पद पर अमित शाह का कार्यकाल समाप्त होने पर क्या राजनाथ इस पद के इच्छुक होंगे ? इस पर उन्होंने कहा कि वह दो बार पार्टी के अध्यक्ष रहे हैं, लेकिन कभी कोई निजी इच्छा नहीं रही। राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्होंने आज तक कभी पार्टी से कुछ नहीं मांगा, यहां तक कि कभी टिकट भी नहीं मांगा। उनका कहना था, "पार्टी ने जो आदेश दिया, उसका मैने पालन किया।" 
    उनसे इन अटकलों के बारे में पूछा गया कि अगर राजग की सरकार बनती है तब अमित शाह गृह मंत्री और राजनाथ स्पीकर बन सकते हैं, तब भाजपा के वरिष्ठ नेता ने जवाब दिया ‘‘ हमारे यहां जो पार्टी तय करती है, वही होता है । ’’ 
    वादे पूरे न करने के विपक्ष के आरोप पर उन्होंने कहा ‘‘सच यह है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व के प्रति लोगों में विश्वास बढ़ा है । ’’ 
    इन चुनावों में उम्मीदवारों का महत्व न होने और सिर्फ मोदी के नाम पर चुनाव लड़े जाने संबंधी सवाल पर राजनाथ ने कहा ‘‘उनके :मोदी के: नेतृत्व में जो काम हुए उसके आधार पर वोट मांग रहे हैं। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है। पहले भी हम अटलजी के नाम पर वोट मांगते रहे हैं ।’’

रेट दें
Submit
  • इस मुलाकात पर अपनी राय दें
  • अन्य मुलाकात
  •     
add