16 Dec 2017, 06:58 HRS IST
  • दुर्घटनावश कुएं में गिर अचेत तेंदुआ
    दुर्घटनावश कुएं में गिर अचेत तेंदुआ
    पार्वती घाटी में भारी बर्फवारी का नजारा
    पार्वती घाटी में भारी बर्फवारी का नजारा
    हमदाबाद : गुजरात चुनाव के अवसर पर मतदाताओं की भीड
    हमदाबाद : गुजरात चुनाव के अवसर पर मतदाताओं की भीड
    अहमदाबाद : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वोट डालने के बाद
    अहमदाबाद : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वोट डालने के बाद
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • रूहानी की आर्थिक, राजनयिक नीति पर फैसला सुनाने के लिए ईरान में आज मतदान शुरू

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:12 HRS IST

तेहरान, 19 मई :एएफपी: ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी की देश की अर्थव्यवस्था को दुनिया के लिए खोलने और ठहरे आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने के प्रयासों को लेकर फैसला देने के लिए आज मतदान आरंभ हुआ।

राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए रूहानी के सामने कट्टरपंथी धर्मगुरू रईसी :56: की कड़ी चुनौती है जिन्होंने स्वयं को गरीबों के रक्षक के रूप में पेश किया है और पश्चिम के खिलाफ कड़ा रख अपनाए जाने की अपील की है।

सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामीनी ने सुबह आठ बजे :अंतरराष्ट्रीय समयानुसार रात तीन बजकर 30 मिनट: पर मतदान शुरू होने के कुछ ही मिनटों बाद अपना मत डाला।

उन्होंने तेहरान में अपने परिसर में मतदान करने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘इस देश का भविष्य ईरानियों के हाथ में है।’’ देशभर में मतदान करने के लिए लोगों की लंबी कतारें देखी गईं।

उदारवादी धर्मगुरू 68 वर्षीय रूहानी ने इस चुनाव को महान नागरिक स्वतंत्रता एवं अतिवाद के बीच चयन के रूप में पेश करने की कोशिश की है।

रईसी ने कहा कि वह वर्ष 2015 में वैश्विक शक्तियों के साथ किए गए परमाणु समझौते का पालन करेंगे जिसके तहत प्रतिबंधों में राहत के बदले ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर रोक की बात की गई है लेकिन उन्होंने निरंतर आर्थिक मंदी का जिक्र करते हुए कहा कि यह इस बात का सबूत है कि रूहानी के राजनयिक प्रयास विफल रहे हैं।

उन्होंने पवित्र शहर मशहद में बुधवार को अंतिम रैली में कहा, ‘‘समस्याओं को सुलझाने के लिए हमारे युवकों के सक्षम हाथों का इस्तेमाल करने के बजाए वे विदेशियों के हाथों में हमारी अर्थव्यवस्था को सौंप रहे हैं।’’ इसके जवाब में रूहानी ने मतदाताओं से अपील की कि वे कट्टरपंथियों को ईरान के नाजुक राजनयिक मामलों से दूर रखें।

रूहानी ने अपनी मशहद रैली में कहा, ‘‘राष्ट्रपति के एक गलत फैसले से युद्ध छिड़ सकता है और एक सही निर्णय से शांति आ सकती है।’’ यह चुनाव ऐसे समय में हो रहे हैं जब अमेरिका और ईरान के संबंधों में तनाव पैदा हो गया है।

रूहानी को बुधवार को उस समय राहत मिली जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने परमाणु संबंधी प्रतिबंधों को हटाने का समझौता फिलहाल लागू रखने पर सहमति जताई।

लेकिन ट्रंप ने समझौते की 90 दिवसीय समीक्षा शुरू की है जिसके बाद समझौते को रद्द भी किया जा सकता है और ट्रंप ईरान के कट्टर क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वी सउदी अरब से इस सप्ताहांत मुलाकात कर रहे हैं।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।