19 Aug 2017, 20:6 HRS IST
  • मासोन: रूस की स्वेतलाना कुज्नेत्सोवा रिवर्स शॉट लगाती हुई
    मासोन: रूस की स्वेतलाना कुज्नेत्सोवा रिवर्स शॉट लगाती हुई
    कोलकाता: सतरंगी छाते की छांव में ग्राहकों का इंतजार करती फल विक्रेता
    कोलकाता: सतरंगी छाते की छांव में ग्राहकों का इंतजार करती फल विक्रेता
    दिल्ली: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को गुलदस्ता भेंट करते किरेन रिजीजू
    दिल्ली: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को गुलदस्ता भेंट करते किरेन रिजीजू
    मुंबई: लैक्मे फैशन वीक—2017 में प्रदर्शन के दौरान अभिनेत्री दिया मिर्जा
    मुंबई: लैक्मे फैशन वीक—2017 में प्रदर्शन के दौरान अभिनेत्री दिया मिर्जा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अंतिम संस्कार के पहले जिंदा हुआ नवजात शिशु

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 22:5 HRS IST

नयी दिल्ली,18 जून :भाषा: लापरवाही की हैरान कर देने वाली एक घटना में केंद्र सरकार के एक अस्पताल के कर्मचारियों ने एक नवजात को कथित तौर पर मृत घोषित कर दिया लेकिन अंतिम संस्कार के पहले परिवार के सदस्यों ने उसे जिंदा पाया ।

घटना सफदरजंग अस्पताल में हुयी जब बदरपुर की एक निवासी ने आज सुबह एब शिशु को जन्म दिया । अस्पताल के कर्मचारियों को बच्चे में कोई हरकत नजर नहीं आयी।

बच्चे के पिता रोहित ने कहा, Þ Þडॉक्टर और नर्सगि कर्मचारियों ने बच्चे को मृत घोषित कर शव को एक पैक में बंद कर उसपर मोहर लगा दी और अंतिम संस्कार के लिए हमें थमा दिया । Þ Þ मां की हालत ठीक नहीं थी तो वह अस्पताल में ही भर्ती है जबकि पिता और परिवार के अन्य सदस्य शव को लेकर घर आए और अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी।

कुछ देर बाद रोहित की बहन ने पैक में कुछ हरकत महसूस की और जब उसे खोला गया तो बच्चे की धड़कन चल रही थी और वह हाथ पैर चला रहा था ।

सफदरजंग अस्पताल प्रशासन ने मामले की जांच का आदेश दिया है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।