22 Feb 2018, 04:44 HRS IST
  • प्योंग यांग : आईस डैंस में स्वर्ण पदक विजेता योडी
    प्योंग यांग : आईस डैंस में स्वर्ण पदक विजेता योडी
    नागपुर : होली के तैयारी पर रंग बनाते कर्मी
    नागपुर : होली के तैयारी पर रंग बनाते कर्मी
    अमृतसर : कनाडा के प्रधानमंत्री स्वर्ण मंदिर का दर्शन करते
    अमृतसर : कनाडा के प्रधानमंत्री स्वर्ण मंदिर का दर्शन करते
    पटना : बिहार के छात्र पहलीबार चप्प्ल पहनकर परीक्षा केन्द्र पहुंचे
    पटना : बिहार के छात्र पहलीबार चप्प्ल पहनकर परीक्षा केन्द्र पहुंचे
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिका में रोजाना गोलीबारी के शिकार होते हैं 19 बच्चे : अध्ययन

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:59 HRS IST

शिकागो, 19 जून :एपी: अमेरिका में एक सरकारी अध्ययन में सामने आया है कि रोजाना गोलीबारी में कम से कम 19 बच्चों की मौत हो जाती है या वे घायल हो जाते हैं। सबसे ज्यादा खतरा लड़कों, किशोर और अश्वेत लोगों को है। यह अध्ययन देश में हिंसा की भयावह तस्वीर को पेश करता है।

साल 2002 और 2014 के बीच के अमेरिकी डेटा का विश्लेषण इस विषय पर अब तक सबसे व्यापक अध्ययन माना जाता है। यह इस बात को रेखांकित करता है कि अध्ययनकर्ता क्यों यह मानते हैं कि बूंदक से की गई हिंसा लोगों की सेहत के लिए खतरा है।

रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र की रिपोर्ट में बच्चों और 17 साल तक के किशोरों को शामिल किया गया है। इसका संकलन मृत्यु प्रमाण पत्रों और आपातकालीन कक्षों की रिपोर्ट के आधार पर किया गया है।

वाषर्कि तौर पर 1,300 मौतें हुई हैं और तकरीबन 6,000 लोग गोलीबारी में जख्मी हुए हैं जिनमें अधिकतर लोग जानबूझकर की गई गोलीबारी में घायल हुए हैं। अधिकतर मौतें हत्या और खुदकुशी का नतीजा थीं, जबकि हमलों में ज्यादातर चोटें घातक नहीं थीं।

एपी नोमान शाहिद अनवारूल शिकागो वि18 0619 1200 शिकागो 003520170619113833

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में