22 Feb 2018, 04:42 HRS IST
  • प्योंग यांग : आईस डैंस में स्वर्ण पदक विजेता योडी
    प्योंग यांग : आईस डैंस में स्वर्ण पदक विजेता योडी
    नागपुर : होली के तैयारी पर रंग बनाते कर्मी
    नागपुर : होली के तैयारी पर रंग बनाते कर्मी
    अमृतसर : कनाडा के प्रधानमंत्री स्वर्ण मंदिर का दर्शन करते
    अमृतसर : कनाडा के प्रधानमंत्री स्वर्ण मंदिर का दर्शन करते
    पटना : बिहार के छात्र पहलीबार चप्प्ल पहनकर परीक्षा केन्द्र पहुंचे
    पटना : बिहार के छात्र पहलीबार चप्प्ल पहनकर परीक्षा केन्द्र पहुंचे
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • जेपी बिल्डर के कार्यालय पर निवेशकों का हंगामा, खरीददारों ने की तोड़फोड़, भारी पुलिस बल तैनात

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:4 HRS IST

नोएडा, 12 अगस्त :भाषा: राष्ट्रीय कंपनी विधि अधिकरण (एनसीएलटी) द्वारा जेपी इंफ्राटेक को दिवालिया की सूची में डालने के बाद घबराये हजारों खरीददारों ने आज जेपी ग्रुप के सेक्टर-128 स्थित दफ्तर पर विरोध प्रदर्शन किया। जब जेपी के सुरक्षाकर्मी ने खरीददारों को अंदर घुसने से रोका तो वे भड़क उठे और बैरीकेड एवं गेट तोड़कर अंदर घुस गये।

खरीददारों का आरोप है कि जेपी पर बैंकों का आठ हजार 365 करोड़ रूपया बकाया है। जबकि खरीददार जेपी ग्रुप को अब तक 20 हजार करोड़ रूपए से ज्यादा दे चुके हैं। उनकी मांग है कि बैंकों का पैसा चुकाने से पहले उनकी गाढ़ी कमाई उन्हें वापस करवायी जाये। बायर्स ने केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ भी नाराजगी जताई और मांग की कि सांसद, मंत्री और विधायक इस मामले में हस्तक्षेप करें।

एनसीएलटी ने आईडीबीआई बैंक की याचिका पर पिछले दिनों जेपी बिल्डर को दिवालिया कंपनी की सूची में डाल दिया था। जिसके बाद 32 हजार खरीददारों को चिंता सताने लगी कि उनके फ्लैट और प्लॉट उन्हें कैसे मिलेंगे। नोएडा और ग्रेटर नोएडा में जेपी बिल्डर के कई बड़े प्रोजेक्ट हैं जो अभी तक पूरे नहीं हुए हैं।

नोएडा के नगर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया कि जेपी बिल्डर के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे उग्र प्रदर्शनकारियों व बिल्डर के बीच बातचीत कराने का प्रयास किया गया लेकिन आपसी नोकझोंक के चलते कोई बात नहीं हो पाई। उन्होंने बताया कि मौके पर पांच थानों की पुलिस तैनात की गई है इस मामले में अभी तक कोई मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है। प्रदर्शन कर रहे खरीददारों का कहना है कि यदि उन्हें उनका पैसा या फ्लैट नहीं मिला तो वे आमरण अनशन करेंगे। खरीददार अजय कौल ने बताया कि जेपी बिल्डर को अब तक खरीददारों ने विभिन्न प्रोजेक्टों के माध्यम से 20 हजार करोड़ रूपए से ज्यादा का भुगतान कर दिया है। उन्होंने कहा कि बैंकों के पैसे से पहले खरीददारों के पैसे वापस करवाये जायें।

खरीददार प्रमोद रावत और देवेंद्र यादव ने बताया कि हम लोग बैंकों से लोन लेकर बिल्डर को अब तक 95 प्रतिशत से ज्यादा का भुगतान कर चुके हैं। एक तरफ बैंक का लोन है दूसरी तरफ हमें अभी तक फ्लैट नहीं मिले हैं जिससे सभी खरीददार डरे हुए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि इस मामले में जेपी बिल्डर की तरफ से कोई भी अधिकारी उनसे बात नहीं कर रहा है और न ही प्राधिकरण और जिला प्रशासन उनकी समस्याओं का समाधान कर रहा है।

मौके पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। लोग जेपी बिल्डर के खिलाफ लगातार नारे लगा रहे हैं। इस प्रदर्शन के चलते काफी देर तक यातायात भी प्रभावित रहा। मौके पर मीडिया का जमावड़ा लगा हुआ है। कुछ खरीददार ऐसे भी हैं जो जेपी बिल्डर के यहां कई फ्लैट बुक कराये हुए हैं। कुछ लोगों ने बिल्डर के यहां अपनी काली कमाई का निवेश भी किया है। उनकी हालत और भी दयनीय है। वे न तो बिल्डर का खुलकर विरोध कर रहे हैं और न ही उसके पक्ष में खड़े हो पा रहे हैं। सूत्रों का दावा है कि लोगों ने हजारों करोड़ से ज्यादा की काली कमाई का निवेश किया है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।