18 Feb 2019, 12:36 HRS IST
  • पुलवामा हमला: कैबिनेट की बैठक में भाग लेते प्रधानमंत्री व अन्य मंत्रीगण
    पुलवामा हमला: कैबिनेट की बैठक में भाग लेते प्रधानमंत्री व अन्य मंत्रीगण
    जम्मू: पुलवामा हमले के विरोध में प्रदर्शन करते लोग
    जम्मू: पुलवामा हमले के विरोध में प्रदर्शन करते लोग
    पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुये गृहमंत्री राजनाथ सिंह
    पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुये गृहमंत्री राजनाथ सिंह
    नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नयी ट्रेन वंदे भारत को हरी झंडी दिखाते हुये
    नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नयी ट्रेन वंदे भारत को हरी झंडी दिखाते हुये
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाने का फैसला राज्यों पर थोप नहीं सकते: प्रधान

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:7 HRS IST

इंदौर, 24 अक्तूबर (भाषा) पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी में लाने की मांग के जन मानस में जोर पकड़ने के बीच केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने आज कहा कि इन वस्तुओं को नयी कर प्रणाली के दायरे में लाने के लिये राज्यों के साथ सहमति बनाने के प्रयास जारी हैं।

प्रधान ने इंदौर के पास दूधिया गाँव में एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद संवाददाताओं से कहा कि केंद्र सरकार राज्यों के साथ वार्ता के जरिये इस विषय में सहमति बनाने की दिशा में रूचि रखती है कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाया जाये।

उन्होंने कहा, "पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाये जाने के बारे में वित्त मंत्री अरुण जेटली की अगुवाई वाली जीएसटी परिषद राज्यों से राय-मशविरे के बाद फैसला करेगी।" प्रधान ने कहा, "मैंने पेट्रोलियम मंत्री होने के नाते बार-बार राज्य सरकारों से आग्रह किया है कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाये जाने से आम लोगों को सहूलियत होगी। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी अक्सर इस विषय में संकेत दिया है।" उन्होंने कहा, "हम इस विषय में लोकतांत्रिक तरीके से राज्यों के साथ सहमति बनाने की कोशिश कर रहे हैं। हम राज्यों पर अपना फैसला थोप नहीं सकते।" गौरतलब है कि फिलहाल पेट्रोलियम पदार्थों के जीएसटी के दायरे में नहीं होने से राज्य सरकारें अलग-अलग दरों से पेट्रोल-डीजल पर मूल्य संवर्धित कर (वैट) और अन्य कर वसूलती है। इससे देश में इन ईंधनों के खुदरा दाम में भारी असमानता है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में