20 Aug 2018, 12:56 HRS IST
  • वाजपेयी की अस्थियां गंगा में विसर्जित
    वाजपेयी की अस्थियां गंगा में विसर्जित
    हिन्दी को संरा की आधिकारिक भाषा बनाने के लिए समर्थन जुटाना कोई कठिन काम नहीं : सुषमा
    हिन्दी को संरा की आधिकारिक भाषा बनाने के लिए समर्थन जुटाना कोई कठिन काम नहीं : सुषमा
    मक्का मदीना में हज यात्रियों की भीड
    मक्का मदीना में हज यात्रियों की भीड
    फ्रेंकफर्ट: मेन नदी में पार्टी बोट क्रूज का दृश्य
    फ्रेंकफर्ट: मेन नदी में पार्टी बोट क्रूज का दृश्य
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • निष्काम सेवा के प्रतीक थे अशोक सिंघल- नायडू

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:17 HRS IST

नयी दिल्ली सात दिसंबर (भाषा) उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू ने विहिप नेता अशोक सिंहल को सार्वकालिक लोकप्रिय संगठनकर्ता बताते हुये उन्हें निष्काम सेवा का प्रतीक बताया।

नायडू ने सिंहल के कृतित्व पर लेखक महेश भागचन्दका द्वारा लिखित पुस्तक का विमोचन करते हुये कहा कि उन्होंने समाज और देश के लिए अपने जीवन के 75 वर्ष दिये। नायडू ने विश्वास व्यक्त किया कि सिंहल की त्यागपूर्ण तपस्या का फल भावी पीढ़ियों को जरूर मिलेगा।

नायडू ने पुस्तक में वर्णित सिंहल की कार्यपद्धति के हवाले से कहा कि उनके जीवन में विरोधाभाषों के बीच भी अद्भुद सामंजस्य दिखाई देता है। ज्ञान, विज्ञान और इंजीनियरिंग के छात्र होने के बावजूद सिंहल का मन गंगा किनारे धर्म, समाज और संस्कृति के चिंतन में रमता था। वह आत्म संस्कार और अनुशासन के लिए संघ की शाखा से जुड़कर निरंतर सक्रिय रहे। नायडू ने कहा कि सिंहल का जीवनवृत्त भावी पीढ़ियों को सदैव प्रेरणा देता रहेगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।