18 Jun 2018, 16:57 HRS IST
  • वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिका को उम्मीद: आतंकवादियों को सौंपेगा पाकिस्तान

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:7 HRS IST

(ललित के. झा) वाशिंगटन, 12 जनवरी (भाषा) अमेरिका ने आज उम्मीद जताई कि पाकिस्तान आतंकवादियों को उसे सौंपकर ‘‘सही कदम’’ उठाएगा और अपने वादे को पूरा करेगा। अमेरिका ने पाकिस्तान के साथ वांछित आतंकवादियों की एक सूची साझा की थी। इस सूची में शामिल आतंकवादियों का ताल्लुक जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हरकतुल मुजाहिदीन से है। अमेरिका का मानना है कि ये आतंकवादी संगठन पाकिस्तानी सरजमीं पर सक्रिय हैं और भारत और अफगानिस्तान को निशाना बनाते हैं।



‘पब्लिक डिप्लोमेसी एंड पब्लिक अफेयर्स’ मामलों के विदेश उप मंत्री स्टीवन गोल्डस्टीन ने कहा, ‘‘मुझे लगता है, मुझे उम्मीद है कि पाकिस्तान सही कदम उठाएगा और आतंकवादियों को सौंप देगा और अपनी प्रतिबद्धता का पालन करेगा।’’ गोल्डस्टीन ने प्रश्नों का उत्तर देते हुए कहा कि अमेरिका को इस बारे में अभी पाकिस्तान से कोई जानकारी नहीं मिली है कि उसने ट्रंप प्रशासन द्वारा सभी प्रकार की सहायता रोके जाने के विरोध में इस्लामाबाद ने अमेरिका के साथ अपना सैन्य एवं खुफिया सहयोग रोकने का कथित निर्णय लिया है।

गोल्डस्टीन ने कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि पाकिस्तान वार्ता की मेज पर आएगा और उन आतंकवादियों को सौंपेगा जिन्हें सौंपे जाने के लिए हमने कहा है।’’ उन्होंने कहा कि अमेरिका ने सहायता केवल रोकी है और राशि पुन: आवंटित नहीं की गई है।

गोल्डस्टीन ने कहा, ‘‘यह पाकिस्तान का काम है कि वह हमें जताई गई प्रतिबद्धता को गंभीरता से लें और सबसे जरूरी है कि वह पाकिस्तान के उन लोगों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को गंभीरता से ले और आगे आए जिन्हें इससे या किसी भी प्रकार की आतंकवादी गतिविधि से सबसे अधिक नुकसान हुआ है। हमारा रुख नहीं बदला है। वे अभी तक आगे नहीं आए हैं।’’ पेंटागन ने एक अन्य संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पाकिस्तान के पास अपने देश के भीतर आतंकवादी खतरों से निपटने की क्षमता है।

पेंटागन की मुख्य प्रवक्ता डाना व्हाइट ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हमारा मानना है कि पाकिस्तान के पास अपने देश के भीतर आतंकवादी खतरों से निपटने की क्षमता है।’’ डाना ने अमेरिका और पाकिस्तान के संबंधों में हाल में आए बदलाव के प्रश्न पर कहा, ‘‘उनके पास निर्णायक कदम उठाने का अवसर है और हम उन्हें ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करने को लेकर उनके साथ काम करने के इच्छुक हैं।’’ इस बीच, अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने संघीय रजिस्टर अधिसूचना में पाकिस्तान को धार्मिक स्वतंत्रता के गंभीर उल्लंघनों को लेकर ‘‘स्पेशल वॉच लिस्ट’’ में औपचारिक रूप से शामिल किया।

टिलरसन ने इस सूची में पाकिस्तान को चार जनवरी को शामिल किया था।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।