22 Sep 2018, 18:16 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • वास्तविक बन रहा है सीबीआरएन हथियारों का खतरा : थलसेना प्रमुख

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:33 HRS IST

नयी दिल्ली, 12 जनवरी (भाषा) थलसेना प्रमुख बिपिन रावत ने आज कहा कि रासायनिक, जैविक, रेडियोधर्मी और परमाणु हथियारों (सीबीआरएन) के उपयोग का खतरा वास्तविक बन रहा है , खासकर राज्य से इतर कारकों से ।

रावत ने कहा कि पारंपरिक सेना के विपरीत , सीबीआरएन से मुकाबला एक "अति अप्रत्याशित" वातावरण में करना होता है , जहां शत्रु भारत का मुकाबला करने के लिए "विषम" साधनों का उपयोग कर सकते हैं।

रावत ने कहा, "सीबीआरएन हथियारों के इस्तेमाल का खतरा वास्तव में वास्तविकता बन रहा है , खासकर राज्य से इतर कारकों से। सीबीआरएन हथियारों के इस्तेमाल से जीवन और संपत्ति के लिए ख़तरा पैदा हो सकता है और इससे उबरने में खासा समय लग सकता है।" थल सेना प्रमुख ने यहां रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) मुख्यालय में सीबीआरएन रक्षा प्रौद्योगिकियों पर एक कार्यशाला के उद्घाटन के मौके पर यह टिप्पणी की।

इस समारोह का उद्घाटन रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को करना था लेकिन वह अन्यत्र व्यस्तता का हवाला देते हुए इसमें शामिल नहीं हुयीं।

रावत ने कहा कि देश को सुरक्षित रखने का सबसे अच्छा तरीका सुरक्षा, प्रौद्योगिकी, उपकरण और प्रणालियों को विकसित करना और सैनिकों को उन्नत प्रशिक्षण मुहैया कराना है।

उन्होंने कहा कि "पारंपरिक युद्ध के विपरीत, सीबीआरएन से मुकाबला काफी अप्रत्याशित माहौल में होता है जहां मानव और मशीन का सही सामंजस्य में काम करना वांछनीय होगा।"

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।