22 Sep 2018, 18:13 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • आप की नजर पूर्वोत्तर राज्यों पर भी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:2 HRS IST

नयी दिल्ली, 13 जनवरी (भाषा) आम आदमी पार्टी (आप) ने राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल करने की कवायद तेज करते हुये इस साल आठ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव पर नजरें टिका दी हैं। इस कड़ी में आप की जोर आजमाइश विधानसभा चुनाव वाले पूर्वोत्तर के तीन राज्यों नगालैंड, मेघालय और त्रिपुरा पर रहेगी।

आप की पूर्वोत्तर इकाई के संयोजक हाबंग पायेंग ने बताया कि पार्टी नगालैंड और मेघालय में सभी सीटों पर और त्रिपुरा की चुनिंदा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। इसके बाद साल के अंत में मिजोरम में होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ने की भी आप की योजना है।

उल्लेखनीय है कि आप नेतृत्व का मकसद पार्टी को उसकी स्थापना के महज पांच साल के भीतर राष्ट्रीय स्तर की पार्टी का दर्जा हासिल कराना है। पार्टी ने दिल्ली में सत्तारूढ़ होने और पंजाब में मुख्य विपक्षी दल बनने के अलावा दिल्ली के स्थानीय निकायों में दूसरे नंबर की पार्टी बनने की उपलब्धि हासिल करने के बाद आप को इस साल आठ राज्यों में प्रस्तावित विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राष्ट्रीय पार्टी का तमगा दिलाने का लक्ष्य तय किया है। हालांकि दिल्ली और पंजाब के अलावा आप ने गुजरात और गोवा विधानसभा चुनाव में भी जोरशोर से शिरकत की थी, लेकिन उसे निराशाजनक परिणाम हासिल हुआ। इस साल आप ने कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव लड़ने के लिये भी कमर कस ली है। वहीं आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कल महाराष्ट्र में जनसभा को संबोधित कर अगले साल अक्तूबर में प्रस्तावित विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमाने का संदेश दिया है। पूर्वोत्तर में आप की चुनावी रणनीति के सवाल पर पायेंग ने कहा कि आगामी फरवरी मार्च में मेघालय, त्रिपुरा और नगालैंड में 60 सीटों वाली विधानसभा के लिये चुनाव प्रस्तावित हैं। पार्टी नेता संजय सिंह ने हाल ही में तीनों राज्यों का दौरा कर नगालैंड और मेघालय की सभी सीटों तथा त्रिपुरा की चुनिंदा सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला किया गया।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।