21 Jul 2018, 14:58 HRS IST
  • गुवाहाटी : गर्मी से निजात पाने के लिए नदी में नहाते बंदर जोडी
    गुवाहाटी : गर्मी से निजात पाने के लिए नदी में नहाते बंदर जोडी
    अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष बैच पत्रकारों को संबोधित करते
    अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष बैच पत्रकारों को संबोधित करते
    खोरदा : किसान मानसून के मौके पर धान की रोपाई करते
    खोरदा : किसान मानसून के मौके पर धान की रोपाई करते
    मानसून सत्र में ​भाग लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    मानसून सत्र में ​भाग लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • गलती से जारी मिसाइल अलर्ट के बाद हवाई प्रांत के लोगों में अफरा-तफरी, गवर्नर ने इसे मानवीय गलती बताया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:45 HRS IST

(ललित के झा) वाशिंगटन / होनोलुलु , 14 जनवरी (भाषा) अमेरिका के हवाई प्रांत पर लक्षित एक मिसाइल के गिर सकने की अलर्ट गलती से जारी हो गया जिसके बाद वहां अफरातफरी मच गयी। अधिकारियों ने इसे ‘मानवीय गलती’ बताते हुए मांफी मांगी है।

स्थानीय समयानुसार सुबह करीब आठ बजकर सात मिनट पर सभी लोगों के मोबाइल फोन पर एक आपातकालीन अलर्ट, “हवाई में बैलिस्टिक मिसाइल का खतरा। तत्काल आश्रय स्थल खोज लें। यह ड्रिल नहीं है” का संदेश आया।

यह अलर्ट ऐसे समय जारी हुआ जब हाल के महीनों में अमेरिका के इस प्रांत में उत्तर कोरिया की तरफ से होने वाले हमले की आशंका बढ़ी हुई है। हालांकि बाद में अधिकारियों ने इसे गलती से जारी हुआ संदेश बताया।

हवाई के गवर्नर डेविड इज ने बताया कि मानवीय गलती की वजह से अलर्ट जारी हो गया था।

सीएनएन ने इज को यह कहते हुए उद्धृत किया, “यह एक मानवीय गलती थी और शिफ्ट बदलने के दौरान एक कर्मचारी ने गलत बटन दबा दिया।” इज ने बताया कि चेतावनी टेलिविजन, रेडियो सहित फोन पर भी जारी किया गया था। बहरहाल, इस चेतावनी के जारी होने के 10 मिनट बाद हवाई आपातकालीन प्रबंधन एंजेंसी ने ट्वीट करते हुए लोगों को सूचित किया, “ हवाई पर कोई मिसाइल खतरा नहीं है।” दूसरा आपातकालीन अलर्ट आठ बजकर 45 मिनट पर चलाया गया।

इस अलर्ट में कहा गया, “ हवाई प्रांत पर मिसाइल की कोई चेतावनी या खतरा नहीं है। यह एक गलत चेतावनी थी।” इसके बाद अमेरिका पैसेफिक कमान ने भी अलग से एक बयान जारी करके कहा कि हवाई पर कोई मिसाइल खतरा नहीं हैं और पहले वाली चेतावनी गलती से जारी हो गई थी।

अभी तक यह साफ नहीं हुआ है कि क्यों शुरुआती अलर्ट जारी किए गए थे और कितने लोगों को यह संदेश मिला।

वायरलेस आपातकालीन अलर्ट बेहद मुश्किल परिस्थितियों में जारी किए जाते हैं और इसे जारी करने में फेडरल कम्युनिकेशन कमीशन, फेडरल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी और वायरलेस इंडस्ट्री की साझेदारी रहती है।

गलत चेतावनी जारी होने के कुछ देर बाद एफसीसी अध्यक्ष अजीत पाई ने बताया कि जो कुछ हुआ है उसको लेकर एक जांच शुरू की जा रही है।

वहीं, व्हाइट हाउस की उप प्रेस सचिव लिंड्से वॉल्टर्स ने बताया कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को हवाई के आपात प्रबंधन अभ्यास के बारे में बता दिया गया है।

यह अलर्ट ऐसे समय में जारी हुआ है जब उत्तर कोरिया के साथ अमेरिका का तनाव काफी गहराया हुआ है।

इस बीच उत्तर कोरिया के तानाशाह नेता किम जोंग-उन ने अधिक मिसाइल परीक्षण करने की चेतावनी भी दी है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।