21 Jul 2018, 14:59 HRS IST
  • गुवाहाटी : गर्मी से निजात पाने के लिए नदी में नहाते बंदर जोडी
    गुवाहाटी : गर्मी से निजात पाने के लिए नदी में नहाते बंदर जोडी
    अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष बैच पत्रकारों को संबोधित करते
    अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष बैच पत्रकारों को संबोधित करते
    खोरदा : किसान मानसून के मौके पर धान की रोपाई करते
    खोरदा : किसान मानसून के मौके पर धान की रोपाई करते
    मानसून सत्र में ​भाग लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    मानसून सत्र में ​भाग लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • बुद्ध का संदेश हिंसा से करुणा की ओर बढ़ने के लिए अत्यावश्यक : राष्ट्रपति कोविंद

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:50 HRS IST

मुम्बई, 14 जनवरी (भाषा) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज कहा कि भगवान बुद्ध का संदेश समाज के हिंसा से करुणा की ओर बढ़ने के लिए अत्यावश्यक है।

वह यहां उपनगरीय क्षेत्र बोरिवली के गोरई में ग्लोबल विपश्यना पैगोडा में आभार दिवस कार्यक्रम में बोल रहे थे।

यह दिवस म्यामांर के प्रख्यात विपश्यना प्रशिक्षक सायाग्यी यू बा खिन की पुण्यतिथि पर मनाया जाता है और उनके प्रति आभार के प्रतीक के तौर पर पैगोडा का निर्माण कराया गया है।

राष्ट्रपति ने कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा, ‘‘मानवता की भलाई के लिए हमें हिंसा से करुणा की ओर बढ़ने की जरुरत है ऐसे में समाज में महात्मा बुद्ध के संदेश का प्रसार करना अत्यावश्यक है। विपाश्यना हमें लोगों को ऐसे संदेशों और सिद्धांतों की सीख देने में मदद करता है।’’

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र कई उपलब्धियों को लेकर ख्यात है और उसे इन धर्म एवं परंपरा केंद्रों से व्यापक पहचान मिली है।

उन्होंने कहा, ‘‘दुनियाभर से पर्यटकों को आर्कषित करने वाली अजंता की गुफाएं उसका उदाहरण है।’’

कोविंद ने कहा, ‘‘..... विद्यार्थियों को परीक्षाओं में अच्छे अंक मिल सकते हैं। सरकारी अधिकारी एवं खिलाड़ी भी अच्छा प्रदर्शन कर सकते है क्योंकि विपश्यना का तन-मन एवं आध्यात्मिक स्तर पर व्यापक असर होता है।’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।