22 Aug 2018, 06:43 HRS IST
  • अमृतसर : गणेश उत्सव की तैयारी का नजारा
    अमृतसर : गणेश उत्सव की तैयारी का नजारा
    लंदन : इंग्लिश प्रीमियर लीग फुटबॉल मैच का नजारा
    लंदन : इंग्लिश प्रीमियर लीग फुटबॉल मैच का नजारा
    पालेमबांग:स्वर्ण,रजत पदक विजेता शूटर जोडी सौरभ एवं अभिषक वर्मा
    पालेमबांग:स्वर्ण,रजत पदक विजेता शूटर जोडी सौरभ एवं अभिषक वर्मा
    नटिंघम:भारत वनाम इंग्लैंड के बीच तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच का दृश्य
    नटिंघम:भारत वनाम इंग्लैंड के बीच तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच का दृश्य
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • प्रधानमंत्री मोदी ने ओमान में शिव मंदिर में दर्शन किये

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:34 HRS IST

मस्कट, 12 फरवरी (भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि वह मस्कट में 125 साल पुराने शिव मंदिर में पूजा करके बेहद धन्य महसूस कर रहे हैं। यह क्षेत्र के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है।

मोदी अपनी तीन देशों की यात्रा के आखिरी चरण में यहां पहुंचे। उन्होंने यहां मातराह क्षेत्र में स्थित मंदिर की यात्रा की।

प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘मस्कट के शिव मंदिर में पूजा करके बेहद धन्य महसूस कर रहा हूं।’’ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘PM @narendramodi ने मस्कट में ऐतिहासिक शिव मंदिर में अभिषेकम किया और मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों के साथ बातचीत की।’’ मंदिर का निर्माण गुजरात के व्यापारी समुदाय ने 125 साल पहले किया था और बाद में 1999 में उसका पुनरुद्धार किया गया।

मंदिर में तीन देवता--श्री आदि मोतीश्वर महादेव, श्री मोतीश्वर महादेव और श्री हनुमानजी की प्रतिमा है। शुभ दिन में 15000 से अधिक श्रद्धालु पूजा के लिये मंदिर आते हैं।’’ प्रधानमंत्री ने मंदिर प्रशासन के अधिकारियों और भारतीय समुदाय के सदस्यों के साथ समूह फोटो भी खिंचवाई।

प्रधानमंत्री ओमान की मुख्य मस्जिद सुल्तान कबूस जामा मस्जिद भी गए। इसका 2001 में उद्घाटन किया गया था।

कुमार ने कहा, ‘‘ओमान के साथ भारत का एक और संबंध। PM @narendramodi ने मस्कट में सुल्तान कबूस जामा मस्जिद की यात्रा की। यह ओमान की सबसे बड़ी मस्जिद है। मस्जिद का निर्माण तीन लाख भारतीय बलुआ पत्थर से किया गया और इसके निर्माण में भारत से 200 शिल्पकार लगे थे।’’ भाषा दिलीप

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में