21 Feb 2019, 23:36 HRS IST
  • पुलवामा हमला: कैबिनेट की बैठक में भाग लेते प्रधानमंत्री व अन्य मंत्रीगण
    पुलवामा हमला: कैबिनेट की बैठक में भाग लेते प्रधानमंत्री व अन्य मंत्रीगण
    जम्मू: पुलवामा हमले के विरोध में प्रदर्शन करते लोग
    जम्मू: पुलवामा हमले के विरोध में प्रदर्शन करते लोग
    पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुये गृहमंत्री राजनाथ सिंह
    पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुये गृहमंत्री राजनाथ सिंह
    नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नयी ट्रेन वंदे भारत को हरी झंडी दिखाते हुये
    नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नयी ट्रेन वंदे भारत को हरी झंडी दिखाते हुये
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • किसी निश्चित सीमा तक ही धन से खुशियां खरीदी जा सकती है: अध्ययन

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:12 HRS IST



वाशिंगटन, 14 फरवरी (भाषा) हमारे आस-पास दो तरह के लोग होतें हैं जिनमें से एक का मानना है कि पैसे से खुशियां खरीदी जा सकती है और दूसरे का है कि पैसे से सब कुछ नहीं खरीदा जा सकता। लेकिन एक अध्ययन से पता चला है कि किसी व्यक्ति को खुश रहने के लिए कितनी धनराशि की आवश्यकता होती है और यह राशि हर देश के लिए अलग है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जब धन एक सीमा से अधिक हो जाता है तो जीवन में संतुष्टि घटने लगती है।

अमेरिका में परड्यू विश्वविद्यालय के एंड्रू टी जेब ने कहा, “ हम जो टीवी पर देखते हैं या विज्ञापनकर्ता जो हमें बताते हैं कि इसकी कोई सीमा नहीं होती है कि आपको खुशियों के लिए कितने पैसों की जरूरत है। लेकिन अब हम देख रहे हैं कि इसकी कुछ सीमा है।”

जेब ने बताया, “ इस पर बहस हो चुकी है कि किस सीमा पर जाकर पैसा आपके जीवन स्तर में बदलाव करना बंद कर देता है।”

उन्होंने कहा, “ हमने पाया कि जीवन स्तर आगे बढ़ाने के लिए 95,000 अमेरिकी डॉलर यानी लगभग 61 लाख रुपये और भावनात्मक रूप से खुश रहने के लिए करीब 60,000 से 75,000 अमेरिकी डॉलर यानी लगभग 38 लाख रुपये से 48 लाख रुपये। यह राशि एक व्यक्ति के लिए है और परिवार के लिए यह राशि और अधिक हो सकती है।

यह अध्ययन ‘नेचर ह्यूमन बिहेवियर’ जर्नल में छपा है और इसके आंकड़ें गेलअप वर्ल्ड पोल पर आधारित हैं।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।