28 May 2018, 00:44 HRS IST
  • पहलगाम का जायजा लेते सेना प्रमुख विपिन रावत
    पहलगाम का जायजा लेते सेना प्रमुख विपिन रावत
    गुवाहाटी : शांत ब्रह्मपुत्र नदी का नजारा
    गुवाहाटी : शांत ब्रह्मपुत्र नदी का नजारा
    वीरभूम : प्रधानमंत्री के संग शेख हसीना एवं ममता बनर्जी
    वीरभूम : प्रधानमंत्री के संग शेख हसीना एवं ममता बनर्जी
    जर्मनी में स्ट्रॉबेरी के मौसम में फके हुए स्ट्रॉबेरी लेकर महिला
    जर्मनी में स्ट्रॉबेरी के मौसम में फके हुए स्ट्रॉबेरी लेकर महिला
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • ओवीएल ने ईरानी गैस क्षेत्र में 6.2 अरब डालर निवेश की पेशकश की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:48 HRS IST

नयी दिल्ली, 14 फरवरी (भाषा) ओएनजीसी विदेश लिमिटेड (ओवीएल) ने ईरान के फरजाद-बी गैस क्षेत्र में 6.2 अरब डालर निवेश करने की पेशकश की है। यह पेशकश ऐसे समय में की गई है जबकि इसकी प्राकृतिक गैस की कीमत पर मतभेदों के चलते बातचीत अटक गई है।

ओवीएल ने पिछले साल फरजाद-बी क्षेत्र के विकास में 11 अरब डालर निवेश करने की पेशकश की थी। इसके तहत गैस के निर्यात के लिए बुनियादी ढांचे का विकास भी किया जाना था। हालांकि ईरान ने ईंधन की कीमत पर मतभेदों के चलते इस क्षेत्र का अधिकार भारतीय कंपनी को देने से इनकार कर दिया।

जानकार सूत्रों ने कहा कि चूंकि यह सौदे टूटने के कगार पर आ गया तो ओवीएल ने केवल उत्खनन के हिस्से में निवेश का प्रस्ताव किया है ताकि उत्पादन शुरू किया जा सके। उन्होंने कहा कि ओवीएल ने ईंधन के विपणन का काम ईरान के हिस्से में छोड़ने की पेशकश की है।

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी 15 17 फरवरी के भारत यात्रा पर आ रहे हैं। भारत को उम्मीद है कि इस यात्रा के दौरान ही इस बारे में कोई समझौता हो जाएगा।

ओवीएल के अनुसार परियोजना के उत्खनन वाले हिस्से की लागत 6.2 अरब डालर आएगी जबकि एलएनजी निर्यात सुविधा खड़ी करने के लिए पांच अरब डालर का निवेश और चाहिए होगा।

सूत्रों के अनुसार ईरान का मानना है कि उत्खनन निवेश 5.5 अरब डालर से अधिक नहीं होना चाहिए जबकि वह चाहता है कि भारत इससे पैदा होने वाली गैस उसी दाम पर खरीदे जिस दाम पर कतर अपनी एलएनजी भारत को बेच रहा है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में