21 Oct 2020, 09:24 HRS IST
  • न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • दिल्ली के मुख्यसचिव-आप विधायकों के विवाद से जुड़ी याचिका को हाईकोर्ट ने किया नामंजूर

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 14:21 HRS IST



नयी दिल्ली, 21 फरवरी (भाषा) मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर पर यहां हुई एक बैठक के दौरान दिल्ली के मुख्य सचिव अंशुप्रकाश पर आम आदमी पार्टी के कुछ विधायकों के कथित हमले में तत्काल न्यायिक हस्तक्षेप की मांग से जुड़ी एक याचिका आज दिल्ली उच्च न्यायालय ने अस्वीकार कर दी।



अत्यावश्यक आधार पर सुनवाई के लिये यह याचिका कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ के समक्ष पेश की गई थी। पीठ ने कहा कि दिल्ली पुलिस पहले से ही इस मामले को देख रही है और वह अंतिम नतीजे का इंतजार करेगी।

पीठ ने कहा, ‘‘वे (पुलिस) कानून के मुताबिक कार्रवाई करेंगे। हम अंतिम नतीजे का इंतजार करेंगे।’’ उन्होंने कहा कि मीडिया में आई खबरों के मुताबिक दोनों पक्षों की इस मामले में अलग-अलग कहानी है।



अपनी याचिका में एडवोकेट के एस वाही ने न्यायिक हस्तक्षेप का अनुरोध करते हुये कहा था कि अगर ‘‘निर्वाचित (विधायक) और चयनित (नौकरशाह) आपस में लड़ेंगे’’ तो शहर को परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

वकील ने कहा, ‘‘दोनों प्रतिनिधियों को दिल्ली के कामकाज और प्रशासन के लिये बने कानून के मुताबिक काम करना होगा।’’

वकील ने यह अनुरोध करते हुए अदालत से हस्तक्षेप की मांग की थी कि कथित हमला पूर्व नियोजित था और इसमें वहां मौजूद सभी लोगों की ‘‘साजिश’’ है जिससे नौकरशाहों को उनके वैधानिक दायित्वों का निर्वहन करने से रोका जा सके।

दिल्ली के मुख्य सचिव की शिकायत पर पुलिस ने कल विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।