27 Mar 2019, 06:24 HRS IST
  • विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने  अपने घर में मनायी होली
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने अपने घर में मनायी होली
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कोरेगांव हिंसा: उच्चतम न्यायालय ने एकबोटे की अग्रिम जमानत याचिका खारिज की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 18:30 HRS IST



नयी दिल्ली, 14 मार्च( भाषा) उच्चतम न्यायालय ने महाराष्ट्र में एक जनवरी को भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा की घटना के मुख्य आरोपी दक्षिणपंथी नेता मिलिन्द रमाकांत एकबोटे की अग्रिम जमानत याचिका आज खारिज कर दी। इस हिंसा में एक व्यक्ति मारा गया था और एक सौ से अधिक लोग जख्मी हो गये थे।

न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर, न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने याचिका खारिज करते समय महाराष्ट्र सरकार की ओर से अतिरिक्त सालिसीटर जनरल एएनएस नाडकर्णी के इस कथन को ध्यान में रखा कि इस घटना में177 व्यक्ति घायल हो गये थे और भीड़ को उकसाने वालों में एकबोटे‘‘ मुख्य व्यक्ति’’ था।

पीठ ने एकबोटे के वकील से कहा, ‘‘ आपके खिलाफ मामला लंबित है। आप सांप्रदायिक हिंसा फैला रहे हैं। यह सब क्या है? आप सांप्रदायिक वैमनस्य पैदा कर रहे हैं।’’

एकबोटे के वकील ने कहा कि सरकार पहले ही अदालत में स्थिति रिपोर्ट पेश कर चुकी है और शीर्ष अदालत ने उसे गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था। उन्होंने कहा कि एकबोटे पांच बार थाने में जा चुका है लेकिन इसके बावजूद उसे आज तक गिरफ्तार नहीं किया गया है।

वकील ने जब यह दावा किया कि आरोपी हिंसा के वक्त वहां मौजूद नहीं था तो पीठ ने कहा, ‘‘ आप वहां पर मौजूद हुए बगैर भी समस्या पैदा कर सकते हैं। आपने क्या सोशल मीडिया के बारे में सुना है? अमेरिका में बैठा हुआ व्यक्ति भी यहां यह सब कर सकता है।’’

शीर्ष अदालत ने सात फरवरी को एकबोटे को20 फरवरी तक के लिये गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था और राज्य सरकार से उसकी याचिका पर जवाब मांगा था। न्यायालय ने पिछली तारीख पर इस मामले की सुनवाई के दौरान यह संरक्षण आज तक के लिये बढ़ा दिया था।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।