27 Mar 2019, 02:34 HRS IST
  • विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने  अपने घर में मनायी होली
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने अपने घर में मनायी होली
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कठुआ मामला : न्यायालय दोपहर दो बजे दो अलग-अलग याचिकाओं पर करेगा सुनवाई

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:9 HRS IST



नयी दिल्ली , 16 अप्रैल ( भाषा ) उच्चतम न्यायालय ने कठुआ मामले से जुड़ी दो अलग - अलग याचिकाओं पर दोपहर दो बजे सुनवाई करने पर सहमति जताई है। इनमें से एक याचिका सामूहिक दुष्कर्म और हत्या का शिकार हुई बच्ची के परिवार का प्रतिनिधित्व करने वाली कठुआ की वकील दीपिका सिंह राजावत ने दायर की है। उन्होंने याचिका में मामले की पैरवी करने पर अपनी जान को खतरा बताया है।



दूसरी याचिका दिल्ली स्थित वकील अनुजा कपूर की तरफ से दायर की गई है उन्होंने इस सनसनीखेज सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले की सुनवाई कठुआ से दिल्ली स्थानांतरिक करवाने की मांग की है।

कपूर ने मामले की जांच सीबीआई को स्थानांतरिक करने की भी मांग अपनी याचिका में की है। इसके अलावा याचिका में मामले की पीड़ित के परिजनों के लिये मुआवजे की भी मांग की गई है।



प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा , न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और डी वाई चंद्रचूड़ की एक पीठ ने राजावत और कपूर की तरफ से पेश हुईं वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह की तरफ से बढ़ाए गए प्रतिवेदन पर विचार किया। इस प्रतिवेदन में दोनों याचिकाओं पर अत्यावश्यक आधार पर आज ही सुनवाई करने का अनुरोध किया गया था।



पीठ ने कहा , ‘‘ हम पहले ही शुक्रवार को आदेश पारित कर चुके हैं। ’’



इस पर जयसिंह ने कहा कि पूर्व में बार असोसिएशन को नोटिस जारी किया गया था जबकि मौजूदा मामला स्थानीय वकील राजावत को मिल रही धमकियों से जुड़ा है।



पीठ याचिका पर आज दो बजे सुनवाई के लिये राजी हो गई।



सर्वोच्च न्यायालय ने 13 अप्रैल को कठुआ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में न्यायिक प्रक्रिया को कुछ वकीलों द्वारा बाधित किये जाने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई थी और खुद मामले में संज्ञान लेते हुये कहा कि ऐसी रुकावटें ‘‘ न्याय की व्यवस्था को प्रभावित करती हैं और यह न्याय मिलने में बाधा खड़ी करने के तुल्य है। ’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।