10 Dec 2018, 07:27 HRS IST
  • निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    भोपाल गैस त्रासदी की 34वीं वर्षगांठ पर मशाल जुलूस
    भोपाल गैस त्रासदी की 34वीं वर्षगांठ पर मशाल जुलूस
    कोलकाता में डूबते सूरज का एक नजारा
    कोलकाता में डूबते सूरज का एक नजारा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारत एक है, भारतीय एक हैं: भागवत

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 22:56 HRS IST

मुंबई , 16 अप्रैल ( भाषा ) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ( आरएसएस ) के प्रमुख मोहन भागवत ने आज कहा कि ‘ इंडिया ’ नाम का शब्द सिंधु नदी (इंडस) के नाम से निकला। उन्होंने यह भी कहा कि ज्यादा समावेशी शब्द ‘ भारत ’ इस देश को संबोधित करने का वैकल्पिक तरीका है।

आज शाम यहां बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा , ‘‘ इंडिया सिंधु से आया , क्या इसमें कावेरी है ? भारत में यह नहीं है ? भारत एक है , सभी भारतीय एक हैं। ’’

उन्होंने कहा , ‘‘ अंग्रेजी में भी आप भारतीय लिख सकते हैं। इसे ‘ भारतीय ’ के रूप में लिखने से भाषा के किसी नियम का उल्लंघन नहीं होता क्योंकि व्यक्तिवाचक संज्ञा का अनुवाद नहीं होता। ’’

व्यक्तिवाचक संज्ञा के बारे में अपनी बात को और स्पष्ट करते हुए भागवत ने कहा कि उन्हें हर जगह ‘‘ मोहन ’’ कहकर बुलाया जाता है।

उन्होंने कहा , ‘‘ मोहन का अनुवाद संभव नहीं है। मैं दुनिया में जहां कहीं जाता हूं , मोहन कहलाता हूं , हम सब भारतीय हैं। ’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।