21 Sep 2018, 13:5 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • चलन में पर्याप्त मुद्रा, अस्थायी कमी से जल्द निपट लिया जाएगा : जेटली

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:3 HRS IST



नयी दिल्ली , 17 अप्रैल ( भाषा ) वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि ‘ पर्याप्त से ज्यादा मुद्रा ’ चलन में है और कुछ राज्यों में अस्थायी कमी की समस्या से ‘ जल्द निपट लिया ’ जाएगा।

खबरें हैं कि गुजरात , महाराष्ट्र , मध्यप्रदेश , बिहार , आंध्रप्रदेश और तेलंगाना जैसे कम से कम छह राज्यों में मुद्रा की कमी है।

जेटली ने एक ट्वीट में कहा कि उन्होंने देश में मुद्रा की स्थिति का आकलन किया है।

वित्त मंत्री ने कहा , ‘‘ कुल मिलाकर पर्याप्त से ज्यादा मुद्रा चलन में है और यह बैंकों के पास भी उपलब्ध है। कुछ इलाकों में असाधारण तरीके से अचानक बढ़ी मांग से मुद्रा की अस्थायी तौर पर कमी हो गई है जिसे जल्द ही निपटा लिया जाएगा। ’’

वित्त राज्यमंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि कुछ राज्यों में मुद्रा की कमी से निपटने के लिए सरकार ने एक समिति बनायी है। इस समस्या को अगले दो - तीन दिन में सुलझा लिया जाएगा।

शुक्ला ने कहा , ‘‘ सरकार ने राज्यवार समिति बनायी है। इसके अलावा भारतीय रिजर्व बैंक ने भी एक राज्य से दूसरे राज्य में मुद्रा स्थानांतरित करने के लिए समिति गठित की है क्योंकि धन के हस्तांतरण के लिए रिजर्व बैंक की अनुमति चाहिए। इसे ( मुद्रा की कमी ) दो - तीन दिन में सुलझा लिया जाएगा। ’’

रिजर्व बैंक की रपट बताती है कि देश में अभी मुद्रा का स्तर नोटबंदी से पहले वाले स्तर यानी करीब 17 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।