21 Oct 2020, 09:40 HRS IST
  • न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add

मोदी पर कांग्रेस मुक्त भारत का भूत सवार हो गया है - सोनिया फोटो पीटीआई
  • Photograph Photograph  (1)
  • मोदी पर कांग्रेस मुक्त भारत का ‘‘भूत सवार हो गया है’’ : सोनिया

  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 21:15 HRS IST



विजयपुर ( केरल ), आठ मई ( भाषा ) संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कांग्रेस मुक्त भारत का ‘‘ भूत सवार हो गया है ’’ और पिछले चार साल में उनकी एकमात्र उपलब्धि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों के अच्छे कामों पर मिटृी डालने की रही है।



उन्होंने कहा कि समाज के सभी वर्ग समस्याओं का सामना कर रहे हैं । उन्होंने साथ ही प्रधानमंत्री के भ्रष्टाचार खत्म करने के ‘‘ पसंदीदा वादे ’’ को लेकर उनपर सवाल उठाए।



यह पिछले दो सालों में उनकी पहली चुनावी रैली थी।





सोनिया ने मोदी पर तंज कसते हुए कहा , ‘‘ मोदी जी इस बात को लेकर गर्व महसूस करते हैं कि वह बहुत अच्छे वक्ता हैं। वह एक अभिनेता की तरफ बोलते हैं। अगर उनके भाषण से देश की भूख मिटती है तो मैं कामना करती हूं कि वह और भाषण दें। ’’



उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से पहले वाराणसी में एक रोड शो के दौरान एकाएक बीमार पड़ने के बाद से सोनिया चुनाव प्रचार अभियानों से दूर थीं।



सोनिया की रैली से पहले प्रधानमंत्री ने यहां अपनी रैली में आज राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा था कि अब तो उनकी पार्टी के नेताओं ने भी कर्नाटक में कांग्रेस को जीत दिलाने की उनकी क्षमता पर संदेह करना शुरू कर दिया है।







मोदी ने कहा ‘‘ कांग्रेस नेताओं को तो यह तक लगने लगा है कि बेटा कर्नाटक में पार्टी की जीत में कोई मदद नहीं कर पाएगा। मैंने कांग्रेस के एक नेता का साक्षात्कार देखा। इसलिए मां को यह सुनिश्चित करने के लिए भेजा जा रहा है कि प्रत्याशी कम से कम अपनी जमानत तो बचा सकें। ’’



लिंगायतों के चुनावी प्रभाव वाले उत्तरी कर्नाटक के विजयपुर में सोनिया की रैली को समुदाय तक पहुंचने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। यह समुदाय पारंपरिक रूप से भाजपा का समर्थन करता रहा है।



भाजपा ने लिंगायत समुदाय के ताकतवर नेता बी एस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद के लिए अपने उम्मीदवार के रूप में पेश किया है।



सोनिया ने अपने भाषण में कहा , ‘‘ मोदीजी में कांग्रेस मुक्त भारत को लेकर जुनून भरा हुआ है। उनपर कांग्रेस मुक्त भारत का भूत सवार है। ’’



उन्होंने कहा , ‘‘ कांग्रेस मुक्त भारत तो छोड़िए वो अपने सामने किसी को बर्दाश्त नहीं कर सकते। देश हैरान है कि वह जहां भी जाते हैं , गलत बोलते हैं। ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़मरोड़ कर पेश करते हैं और अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए वह शतरंज के मोहरे की तरह हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों का इस्तेमाल करते हैं। ”



पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री जिस भाषा का इस्तेमाल करते हैं , वह उनके पद को शोभा नहीं देती।



उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री विभिन्न मुद्दों पर बोलते रहते हैं लेकिन ‘‘ असली मुद्दों ’’ पर बात करने से बचते हैं।



सोनिया ने कहा , ‘‘ आपने चार साल पहले जनता से जो वादे किए थे उनमें से कौन सा वादा पूरा हुआ ? यह बताएं कि आपने देश के किसानों के लिए क्या किया ? मोदीजी ने युवाओं को रोजगार देने के लिए क्या किया ? उन्होंने मध्य वर्ग , महिलाओं , लड़कियों , दलितों और पिछड़े वर्गों के लिए क्या किया ?’’



उन्होंने पूर्व की येदियुरप्पा सरकार के कई नेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप होने की बात करते हुए कहा कि मोदी उनके मॉडल का अनुकरण करेंगे या ‘‘ अपने करीबी सहयोगी के बेटे का ’’ । ऐसा कहते हुए उनका इशारा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की तरफ था।



कांग्रेस जय शाह का मुद्दा उठाती रही है जिनपर आरोप हैं कि मोदी के सत्ता में आने के बाद उनकी कंपनी के टर्नओवर में तेजी से उछाल आया।



सोनिया ने भ्रष्टाचार को लेकर लगातार सिद्धरमैया सरकार पर हमला कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार करते हुए कहा कि वह जानना चाहती हैं कि भ्रष्टाचार विरोधी निगरानी संस्था लोकपाल का क्या हुआ जिसके गठन का प्रस्ताव था।



उन्होंने कहा , ‘‘ मोदी सरकार कर्नाटक में हमारी सरकार के साथ भेदभाव कर रही है। क्या यही आपका ‘ सबका साथ , सबका विकास ’ है ?’’



बहुप्रतीक्षित लोकपाल विधेयक को जनवरी , 2014 में राष्ट्रपति से मंजूरी मिल गयी थी जिससे भ्रष्टाचार विरोधी निगरानी संस्था के गठन का रास्ता साफ हो गया था। लोकपाल के दायरे में कुछ सुरक्षा मानकों के साथ प्रधानमंत्री भी आएंगे। हालांकि अब तक लोकपाल का गठन नहीं हुआ है।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।