22 Aug 2018, 02:56 HRS IST
  • अमृतसर : गणेश उत्सव की तैयारी का नजारा
    अमृतसर : गणेश उत्सव की तैयारी का नजारा
    लंदन : इंग्लिश प्रीमियर लीग फुटबॉल मैच का नजारा
    लंदन : इंग्लिश प्रीमियर लीग फुटबॉल मैच का नजारा
    पालेमबांग:स्वर्ण,रजत पदक विजेता शूटर जोडी सौरभ एवं अभिषक वर्मा
    पालेमबांग:स्वर्ण,रजत पदक विजेता शूटर जोडी सौरभ एवं अभिषक वर्मा
    नटिंघम:भारत वनाम इंग्लैंड के बीच तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच का दृश्य
    नटिंघम:भारत वनाम इंग्लैंड के बीच तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच का दृश्य
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • शीतयुद्ध के बाद भारत, अमेरिका को करीब लाने में 9:11, वाई2के की अहम भूमिका रही : सरना

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:17 HRS IST

( ललित के झा )

वाशिंगटन , 15 मई ( भाषा ) अमेरिका में भारतीय राजदूत नवतेज सिंह सरना ने कहा है कि शीत युद्ध के बाद के दौर में भारत और अमेरिका को एक साथ लाने में 9:11 के आतंकवादी हमले और वाई 2 के समस्या ने अहम भूमिका निभायी।

सरना ने वाशिंगटन में एक कार्यक्रम में कहा कि पोखरण परमाणु परीक्षणों के बाद अमेरिका ने भारत पर प्रतिबंध लगा दिए थे। उसके बाद दोनों देश बातचीत शुरू कर रहे थे।

मई , 1974 के बाद मई , 1998 में भारत ने दूसरी बार पोखरण में परमाणु परीक्षण किए थे।

सरना सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्ट्डीज ( सीएसआईएस ) को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि वे दिन वाई 2 के के दिन थे और अचानक भारतीय कंप्यूटर इंजीनियरों ने समस्याओं का हल निकालना शुरू कर दिया तथा पूरे अमेरिका में चीजों को दुरूस्त किया। उस समय करीब 15 लाख भारतीय यहां थे। इसके बाद अस्पतालों और कंपनियों के अलावा अन्य स्थानों पर भी उनकी मांगें बढ़ने लगी। वहीं से चीजों की शुरूआत हुयी।

वाई 2 के वर्ष 2000 की शुरूआत के समय कंप्यूटर कोडिंग सिस्टम से जुड़ी परेशानी थी। उस समय माना जा रहा था कि इससे पूरी दुनिया में कंप्यूटर नेटवर्क प्रभावित हो जाएगा।

इसके बाद 2001 में 11 सितंबर की आतंकवादी घटना हुयी।

सरना ने कहा कि अब भारत ऐसे स्थान पर है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी कांग्रेस में खड़े हो सकते हैं , जैसा 2016 में उन्होंने किया था और कह सकते हैं कि दोनों देशों ने इतिहास की बाधाओं को दूर कर लिया है।

उन्होंने कहा कि हम ऐसे समय में हैं जब राष्ट्रपति ट्रंप घोषणा कर सकते हैं कि भारत और अमेरिका के संबंध इतने मजबूत और बेहतर कभी नहीं थे।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में