21 Sep 2018, 04:24 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • डब्ल्यूएचओ ने पहली आवश्यक निदान सूची प्रकाशित की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 14:47 HRS IST



नयी दिल्ली , 16 मई ( भाषा ) विश्व स्वास्थ्य संगठन ( डब्ल्यूएचओ ) ने आम रोगों और वैश्चिक प्राथमिकता वाले रोगों के निदान के लिए आवश्यक परीक्षणों की एक सूची ‘ आवश्यक निदान सूची ’ ( एसेन्शियल डायग्नोस्टिक लिस्ट ) प्रकाशित की है। यह डब्ल्यूएचओ द्वारा जारी की गई इस तरह की पहली सूची है।



लोगों तक निदान सेवाओं की पहुंच नहीं होना एक समस्या है जिसके कारण उन्हें सही उपचार नहीं मिल पाता। इस समस्या का समाधान निकालने के लिए यह कदम उठाया गया है।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टी ए घेब्रेयेसस ने कहा, ‘‘ सही निदान प्रभावी उपचार की दिशा में पहला कदम है। निदान सेवाओं की कमी या सही परीक्षण की सुविधा उपलब्ध नहीं होने के कारण किसी की मौत नहीं होनी चाहिए।’’

विश्व निकाय की ओर से जारी एक वक्तव्य में कहा गया कि एक अनुमान के मुताबिक, दुनियाभर में टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित 46 फीसदी वयस्क लोगों के रोग का निदान नहीं हो पाता। इस स्थिति में उन्हें स्वास्थ्य संबंधी गंभीर जटिलताओं का खतरा रहता है और उन्हें सेहत पर अधिक पैसा खर्च करना पड़ता है।

इसमें कहा गया कि एचआईवी और टीबी जैसे संक्रामक रोगों का विलंब से निदान होने से इन रोगों के फैलने का खतरा बढ़ जाता है और उनका उपचार कठिन हो जाता है।

आवश्यक निदान परीक्षण में रक्त और मूत्र परीक्षण समेत 58 परीक्षण शामिल हैं। अन्य 55 परीक्षणों में एचआईवी, टीबी, मलेरिया, हेपेटाइटिस बी और सी आदि का पता लगाने और जांच करने को शामिल किया गया है।

आवश्यक निदान परीक्षण सूची में रक्त जांच और मूत्र परीक्षण आदि पर जोर दिया गया है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।