15 Nov 2018, 16:21 HRS IST
  • भारत की पहली बिना इंजन की रेलगाड़ी ‘ट्रेन18’
    भारत की पहली बिना इंजन की रेलगाड़ी ‘ट्रेन18’
    यूनिसेफ की यूथ एम्बेसडर बनी एथलीट हिमा दास
    यूनिसेफ की यूथ एम्बेसडर बनी एथलीट हिमा दास
    चाचा नेहरू की 129वीं जयंती पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
    चाचा नेहरू की 129वीं जयंती पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
    राहुल और सोनिया के खिलाफ आयकर मामले में चार दिसंबर को अंतिम दलील सुनेगा उच्चतम न्यायालय
    राहुल और सोनिया के खिलाफ आयकर मामले में चार दिसंबर को अंतिम दलील सुनेगा उच्चतम न्यायालय
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • दक्षिण कोरियाई अखबारों ने शांति की ओर ‘पहले कदम’ के तौर पर वार्ता को सराहा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:6 HRS IST



सोल , 13 जून (एएफपी) दक्षिण कोरिया के ज्यादातर अखबारों ने सिंगापुर में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के बीच शिखर वार्ता पर आज आशावादी प्रतिक्रिया दी जबकि एक रूढ़िवादी अखबार ने वार्ता में हुए समझौते को ‘‘ बेतुका ’’ करार दिया।



मध्यमार्गी दैनिक अखबार हैंकूक ने कहा कि ट्रंप और किम द्वारा मंगलवार को वार्ता के बाद जिस बयान पर हस्ताक्षर किए गए उसमें उत्तर कोरियाई के ‘‘ पूर्ण , सत्यापित , अपरिवर्तनीय ’’ परमाणु निरस्त्रीकरण की अमेरिका की मांग को छोड़ा गया तथा इसमें लक्ष्य को हासिल करने के लिए ठोस समयसारिणी का जिक्र नहीं है।



हैंकूक ने एक संपादकीय में लिखा , ‘‘ अहम मुद्दे के लिहाज से ऐसा प्रतीत होता है कि बैठक का नतीजा उम्मीदों के मुताबिक नहीं रहा। ’’



व्यापार समर्थक जूनगैंग अखबार ने वार्ता पर सतर्कतापूर्वक आशावादी रुख जताया।



अखबार ने कहा , ‘‘ हम वार्ता को नाकाम मानकर खारिज नहीं कर सकते। यह पहले ही ऐतिहासिक घटना है कि दो शत्रु देशों के नेता मिले। कोरियाई युद्ध के बाद से दशकों की शत्रुता खत्म करने के लिए पहला कदम उठाया गया। ’’



हालांकि रूढ़िवादी दैनिक अखबार चोसुन ट्रंप और किम द्वारा हस्ताक्षर किए गए समझौते पर जमकर बरसा।



उसने एक संपादकीय में कहा कि 12 जून का समझौता बेहद खराब और बेतुका है।



अखबार ने उत्तर कोरिया द्वारा अपने परमाणु शस्त्रागारों को खत्म करना शुरू करने से पहले ही अमेरिका - दक्षिण कोरिया वार्षिक संयुक्त सैन्य अभ्यास रोकने का वादा करने के लिए ट्रंप पर निशाना साधा।



बहरहाल , वामपंथी झुकाव वाले हैंकीओरेह अखबार ने वार्ता की प्रशंसा करते हुए इसे अमेरिका - उत्तर कोरिया संबंधों में ‘ बड़े बदलाव ’ के नये अध्याय की शुरुआत बताया।

एएफपी गोला वैभव वैभव 1306 1206 सोल

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में