21 Jul 2018, 17:27 HRS IST
  • गुवाहाटी : गर्मी से निजात पाने के लिए नदी में नहाते बंदर जोडी
    गुवाहाटी : गर्मी से निजात पाने के लिए नदी में नहाते बंदर जोडी
    अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष बैच पत्रकारों को संबोधित करते
    अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष बैच पत्रकारों को संबोधित करते
    खोरदा : किसान मानसून के मौके पर धान की रोपाई करते
    खोरदा : किसान मानसून के मौके पर धान की रोपाई करते
    मानसून सत्र में ​भाग लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    मानसून सत्र में ​भाग लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add

गुफा से सुरक्षित निकाले गए 12 खिलाड़ी और कोच
  • Photograph Photograph  (1)
  • ‘‘जल समाधि’’ को परास्त कर सुरक्षित निकले 12 थाई फुटबालर और कोच

  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:24 HRS IST



मे साई (थाईलैंड), 10 जुलाई (एएफपी) थाईलैंड में संकरी गुफा में एक पखवाड़े से अधिक समय तक ‘‘जल समाधि’’ की विभीषिका को परास्त कर आज 12 किशोर फुटबाल खिलाड़ियों और उनके प्रशिक्षक को अंतत: सुरक्षित निकाल लिया गया। थाई नेवी सील ने इसकी घोषणा की है।

इसी के साथ पिछले एक पखवाड़े से अधिक समय से इस घटना में तमाम विपरीत परिस्थितियों के बीच जो बचाव अभियान चल रहा था, वह सफलतापूर्व सम्पन्न हो गया तथा दुनिया भर के लोगों ने राहत की सांस ली। यह बचाव अभियान विश्व भर की सुर्खियों में आ गया था।



सील ने एक फेसबुक पोस्ट में बताया, ‘‘सभी 12 ‘वाइल्ड बोर्स’ और प्रशिक्षक को गुफा से निकाल लिया गया है।’’ इसमें यह भी कहा गया कि सभी सुरक्षित हैं।

वाइल्ड बोर्स इन फुटबाल खिलाड़ियों की टीम का नाम है।

थाई सील एवं विदेशी गोताखोरों ने गुफा में शेष बचे चार लड़कों और उनके 25 वर्षीय प्रशिक्षक को आज अपराह्न में निकाल पाने में सफलता हासिल की। इन लोगों को बेहद खतरनाक रास्ते से निकाला गया जिसमें पानी से भरी संकरी सुरंग शामिल हैं।

निकाले गये किशोरों की उम्र 11 से 16 वर्ष के बीच है। ये किशोर फुटबाल का अभ्यास करने के बाद 23 जून को उत्तरी थाईलैंड के पर्वतीय क्षेत्र में स्थित थाम लुआंग गुफा में चले गये थे। गुफा में अंदर जाने के बाद भारी बारिश होने से बाढ़ का पानी गुफा के भीतर घुस गया और गुफा से निकलने का रास्ता कीचड़ और फिसलन भरा होने के कारण बहुत खतरनाक हो गया।

इन लोगों ने नौ अंधकारमय दिन गुफा में बिताये। इसके बाद दो ब्रिटिश गोताखोर इन तक पहुंचने में कामयाब हुए। किशोर कमजोर होने के बावजूद काफी उत्साहित नजर आ रहे थे।

इन लोगों को पानी भरी गुफा में ढूंढ लेने की प्रसन्नता अधिक समय तक नहीं टिक सकी क्योंकि अधिकारियों को इन्हें भीतर से सुरक्षित निकालने की योजना को तैयार करने में बहुत माथा पच्ची करनी पड़ी। इसका कारण था कि उन्हें गुफा के भीतर चार किलोमीटर से अधिक जाना था और कुछ सुरंगे तो बेहद संकरी थीं।

थाई नेवी सील के एक पूर्व गोताखोर की गुफा में आक्सीजन की कमी के चलते शुक्रवार को हुई मौत के कारण बचाव मार्ग के खतरों को लेकर आशंकाएं बहुत बढ़ गयीं थीं ।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे पहली ऐसी विश्व नेता हैं जिन्होंने इन किशोरों को बचाने में मिली सफलता पर प्रसन्नता जताई तथा उन गोताखोरों के जज्बे को सलाम किया जिन्होंने अपनी जान को जोखिम में डालकर इन किशोरों को बचाया।

मे ने ट्वीट कर कहा, ‘‘थाईलैंड में गुफा में फंसे हुए लोगों का सफलतापूर्वक बचाव किए जाने के कारण प्रसन्न हूं। विश्व देख रहा था तथा इसमें शाामिल सभी लोगों को वह सलाम कर रहा है।’’

अब जबकि सभी लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया है, इस विभीषिका से गुजरने वाले लोगों के शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य को लेकर चिंता जताई जा रही है।

विशेषज्ञों ने आगाह किया है कि दूषित पानी अथवा पक्षियों या चमगादड़ों के मल से संक्रमित होने वाले पानी के कारण फंसे हुए लोगों को खतरनाक संक्रमण हो सकता है।

इस समूह को बचाने के लिए गये चार गोताखोर अभी गुफा से बाहर नहीं आये हैं।

एएफपी माधव नरेश नरेश माधव 1007 1957 मेसाई

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।