21 Sep 2018, 04:0 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • रूसी विदेश मंत्री ने अमेरिका की ‘प्रतिबंध पहले’ नीति की निंदा की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:55 HRS IST



व्लादीवोस्तोक (रूस), 12 सितंबर (एएफपी) रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने बुधवार को अमेरिकी नीति की निंदा करते हुए आरोप लगाया कि अमेरिका बातचीत से पहले ही प्रतिबंध लगा रहा है। दोनों देशों के बीच इससे एक बार फिर तनाव बढ़ रहा है।



मास्को 2014 में क्रीमिया पर कब्जे और पूर्वी यूक्रेन में अलगाववादी विद्रोहियों के समर्थन की वजह से पश्चिम और कीव की नाराजगी के बाद से बढ़ते कड़े दंडात्मक प्रावधानों का सामना कर रहा है।



हाल में कथित तौर पर राष्ट्रपति चुनावों में हस्तक्षेप और ब्रिटेन में एक पूर्व जासूस को जहर दिये जाने के मामलों को लेकर अमेरिका ने रूस पर नए प्रतिबंध लगाए थे।



सुदूरवर्ती पूर्वी शहर व्लादीवोस्तोक में एक आर्थिक मंच के कार्यक्रम से इतर लावरोव ने युवा कूटनीतिज्ञों से कहा, ‘‘अधिकतर मामलों में, अमेरिका बातचीत करने का बहुत इच्छुक नहीं रहता।’’



उन्होंने कहा, ‘‘पहले वह प्रतिबंधों की घोषणा करते हैं फिर और प्रतिबंध और सिर्फ इसके बाद बातचीत शुरू करते हैं।’’ उन्होंने चेतावनी दी कि ऐसी नीतियां ‘‘दीर्घकालिक सफलता’’ की तरफ नहीं ले जातीं।



विदेश मंत्री ने कहा कि वह यह बात सिर्फ अमेरिका और रूस के संदर्भ में नहीं कह रहे बल्कि उत्तर कोरिया, यूरोपीय संघ और चीन के साथ अमेरिकी संबंधों में भी उसका यह तौर-तरीका नजर आता है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।