21 Sep 2018, 03:37 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच एमओयू को मंजूरी दी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 18:7 HRS IST

नयी दिल्ली, 12 सितंबर :भाषा: केंद्रीय मंत्रिमंडल ने शांति पूर्ण उद्देश्यों के लिए बाह्य अंतरिक्ष की खोज और उपयोग के क्षेत्र में सहयोग पर भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच एक समझौता ज्ञापन को बुधवार को मंजूरी प्रदान कर दी ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में समझौता ज्ञापन की जानकारी दी गयी। इस समझौता ज्ञापन पर 26 जुलाई 2018 को जोहान्सबर्ग में हस्ताक्षर किए गए थे।

इस समझौता ज्ञापन के अंतर्गत दोनों देशों के बीच पृथ्वी दूर संवेदी, उपग्रह संचार तथा उपग्रह आधारित नौवहन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा ग्रहों की खोज, अंतरिक्ष यान, लांच यान, अंतरिक्ष प्रणालियों और जमीनी प्रणालियों के उपयोग के क्षेत्र में सहयोग की बात कही गई है।

इससे भू-स्थानिक उपायों और तकनीकों सहित अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के व्यवहारिक उपयोग के क्षेत्र सहयोग में मदद मिलेगी ।

इसके तहत परस्पर लाभ और हित की संयुक्त अंतरिक्ष परीयोजनाओं का नियोजन और क्रियान्वयन के साथ सहयोगात्मक अंतरिक्ष गतिविधियों के लिए भू आधारित स्टेशनों की स्थापना, संचालन तथा रख-रखाव तथा उपग्रह डाटा प्रयोगों के परिणाम तथा वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकी सूचना साझा करना एवं संयुक्त अनुसंधान और विकास गतिविधियों को बढ़ावा दिया जा सकेगा ।

इसमें सहयोग के कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए निर्धारित तकनीकी और वैज्ञानिक कर्मियों का आदान-प्रदान, अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी में क्षमता सृजन तथा संयुक्त गोष्ठियों, सम्मेलनों और वैज्ञानिक बैठकों का आयोजन शामिल है ।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।