21 Sep 2018, 04:10 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कुलसुम के अंतिम संस्कार के लिए शरीफ, पुत्री व दामाद को मिला पैरोल,लाहौर पहुंचे

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:7 HRS IST



(एम जुल्करनैन)

लाहौर, 12 सितंबर (भाषा) पाकिस्तान के रावलपिंडी स्थित अदियाला जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ,बेटी मरियम और दामाद कैप्टन (सेवानिवृत्त) मोहम्मद सफदर, बेगम कुलसुम नवाज के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए 12 घंटे का पैरोल मिलने के बाद बुधवार तड़के लाहौर पहुंच गए।



शरीफ की पत्नी कुलसुम का 68 साल की उम्र में मंगलवार को लंदन में निधन हो गया। वह कैंसर से पीड़ित थीं। उनका पार्थिव शरीर यहां लाया जाएगा और लाहौर के जाटी उमरा गांव में दफनाया जाएगा। जाटी उमरा शरीफ परिवार का पुश्तैनी गांव है।



पंजाब सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा उन्हें 12 घंटे के पैरोल पर रिहा करने की मंजूरी मिलने के बाद शरीफ और दो अन्य लोगों को बुधवार तड़के रावलपिंडी के नूर खान हवाई अड्डे से एक विशेष विमान से जाटी उमरा ले जाया गया। ये तीनों बुधवार तड़के तीन बजकर 15 मिनट पर लाहौर पहुंचे।



पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब ने पीटीआई से कहा कि पार्टी अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने पंजाब सरकार के पास एक आवेदन दायर कर अपने बड़े भाई नवाज शरीफ, भतीजी मरियम और सफदर को पांच दिन के पैरोल पर रिहा करने का आग्रह किया था ताकि वे बेगम कुलसुम नवाज के अंतिम संस्कार में शामिल हो सकें।



पंजाब के गृह विभाग के एक प्रवक्ता ने बाद में कहा कि तीनों की पैरोल की अवधि तीन दिन के लिए बढ़ा दी गयी है।



उन्होंने कहा, ‘‘मध्यरात्रि से यह विस्तार प्रभाव में आएगा और शनिवार की रात तक रहेगा। बेगम कुलसुम को सुपुर्दे खाक करने में देरी होने की स्थिति में पैरोल और बढ़ा दिया जाएगा।’’



प्रवक्ता ने इस बात से भी इनकार किया कि जाटी उमरा स्थित शरीफ के घर को उप कारागार घोषित कर दिया गया है।



इससे पहले प्रधानमंत्री इमरान खान ने शरीफ परिवार की लंदन से कुलसुम का पार्थिव शरीर लाने और पैरोल से जुड़े मामलों में मदद करने का आदेश दिया था।



शरीफ परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए जाटी उमरा में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।



कुलसुम (68) मंगलवार रात कैंसर से जंग हार गईं। पिछले वर्ष उन्हें गले का कैंसर होने का पता चला था जिससे बाद लंदन में उनकी कई बार सर्जरी की गई और कीमोथेरेपी दी गई। जून में हृदयघात होने के बाद से वह वेंटिलेटर पर थीं।



उन्हें शुक्रवार को सुपुर्दे खाक किया जाएगा। गुरूवार दोपहर को लंदन के रीजेंट पार्क स्थित मस्जिद में जनाजे की नमाज अदा की जाएगी और कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद उनका पार्थिव शरीर लाहौर लाया जाएगा।



कुलसुम का पार्थिव शरीर रीजेंट पार्क स्थित मस्जिद के पास एक मुर्दाघर में रखा गया है।



इसी बीच नवाज शरीफ के छोटे भाई शाहबाज शरीफ कुलसुम का पार्थिव शरीर लाने के लिए बुधवार को लंदन रवाना हो गए।



मां की मौत से गमजदा मरियम ने मंगलवार रात को कहा कि उन्हें इस बात का बेहद अफसोस है कि वह अपनी मां के अंतिम वक्त में उनके पास नहीं थीं।



मरियम ने जियो न्यूज से कहा, ‘‘मां के निधन के बारे में जानने के बाद आज बेहद मुश्किल दिन है। यह बेहद कष्टदायी है कि मैं अपनी मां के पास नहीं थी।’’



उन्होंने कहा, ‘‘मैं बेहद दुखी हूं।’’



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।