21 Sep 2018, 03:54 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भाजपा ने बंगाल में रखा 25 लोकसभा सीट जीतने, 2021 के विधानसभा चुनाव में विजयी होने का लक्ष्य

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:48 HRS IST



कोलकाता, 14 सितंबर (भाषा) भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी ने 2019 में आम चुनाव में 25 लोकसभा सीट जीतने और 2021 के विधानसभा चुनाव में राज्य में सत्ता में आने का लक्ष्य रखा है।



उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी वाम दलों और कांग्रेस को पछाड़कर पश्चिम बंगाल में पहले ही मुख्य विपक्षी दल बन चुकी है।



घोष ने यहां पार्टी की राज्य कार्यकारिणी की बैठक में कहा, ‘‘राज्य में लोग ममता बनर्जी की जनविरोधी नीतियों से अप्रसन्न हैं और वे विकल्प की ओर देख रहे हैं, जो हम उपलब्ध कराएंगे।’’



पार्टी से जुड़े सूत्रों ने कहा कि बैठक में आगामी आम चुनाव में राजनीतिक विरोधियों से लड़ने की रणनीति पर चर्चा की गई और जमीनी स्तर से लेकर विभिन्न स्तरों पर पार्टी की संगठनात्मक शक्ति का आकलन किया गया तथा इसे मजबूत करने पर जोर दिया गया।



घोष ने कहा, ‘‘हम 2019 के आम चुनाव को बंगाल में सेमी फाइनल के रूप में ले रहे हैं। हमारा लक्ष्य राज्य की 42 लोकसभा सीटों में से 25 पर जीत दर्ज करना है। राज्य में 2021 का विधानसभा चुनाव हमारा फाइनल होगा। हमें ममता बनर्जी सरकार को हराकर राज्य में हर हाल में जीत दर्ज कर सत्तारूढ़ होना चाहिए।’’



उन्होंने कहा, ‘‘राज्य की राजनीति में हमारे उभार से चिंतित सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस हमसे लड़ने के लिए शायद कांग्रेस से हाथ मिला लेगी, लेकिन इससे भी उन्हें मदद नहीं मिलेगी।’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।