16 Oct 2018, 03:34 HRS IST
  • हुबली : कर्नाटक में दशहरा समारोह में ‘गोट फाइट’ का आयोजन
    हुबली : कर्नाटक में दशहरा समारोह में ‘गोट फाइट’ का आयोजन
    गुवाहाटी : प्लास्टिक की बोतल से तैयार एक दुर्गा पूजा पंडाल
    गुवाहाटी : प्लास्टिक की बोतल से तैयार एक दुर्गा पूजा पंडाल
    कोलकाता : सियालदाह में पूजा पंडाल में ले जायी जा रही दुर्गा प्रतिमा
    कोलकाता : सियालदाह में पूजा पंडाल में ले जायी जा रही दुर्गा प्रतिमा
    नयी दिल्ली : रेनबो शो के फिनाले में फिल्म अभिनेत्री हुमा कुरैशी
    नयी दिल्ली : रेनबो शो के फिनाले में फिल्म अभिनेत्री हुमा कुरैशी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • चीन ने विवादित आतंकवाद निरोधक नियमों में बदलाव किया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:50 HRS IST

बीजिंग, 10 अक्टूबर (एएफपी) चीन के शिनजियांग प्रांत के विवादित ‘‘पुनर्शिक्षा केंद्रों’’ में आतंकवाद निरोधक प्रयास अब नए मानक वाले नियमों से संचालित होंगे। इस अशांत और सुदूर पश्चिमी प्रांत में लगभग 10 लाख लोगों को ऐसे बंधक केंद्रों में रखे जाने की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो रही आलोचना के बीच चीन ने यह कदम उठाया है।

मंगलवार को पारित पुनरीक्षित नियमों में स्थानीय सरकारों से अपील की गई है कि वे ऐसे ‘‘व्यावसायिक शिक्षा केंद्रों’’ की स्थापना करके आतंकवाद से निपटें जो ‘‘चरमपंथ से प्रभावित लोगों में शैक्षणिक तरीके से बदलाव ला सकें।’’

प्रांतीय सरकार की वेबसाइट पर डाले गए नियमों की एक प्रति के मुताबिक, इन केंद्रों को मंडारिन चीनी और कानूनी अवधारणाएं पढ़ानी होंगी और ‘विचार शिक्षा’ एवं व्यावसायिक प्रशिक्षण भी देना होगा।

माना जा रहा है कि शिनजियांग के न्यायेतर बंधक केंद्रों में लगभग 10 लाख लोगों को रखा गया है। वहां के अधिकारियों ने धार्मिक चरमपंथ, अलगाववाद और आतंकवाद से निपटने के तहत यह कदम उठाया है।

मार्च 2017 में जारी पिछले नियमों में धार्मिक व्यवहार पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी गई थीं। लंबी-लंबी दाढ़ी रखने और बुर्का पहनने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया था।

स्थानीय सरकार को ‘‘शैक्षणिक बदलाव’’ के लिए प्रेरित किया जा रहा था। आलोचकों ने इस शब्द की आलोचना करते हुए कहा था कि इसका मतलब है कि उनके दिमाग में सिर्फ चीन के हित की बातें सोचने, बोलने और लिखने के लिए उन्हें तैयार करना है।

एएफपी प्रियभांशु नरेश नरेश 1010 2049 बीजिंग

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।