21 Nov 2018, 01:0 HRS IST
  • भ्रष्टाचार के दीमक को साफ करने के लिये नोटबंदी जैसी बड़े तेज दवाई का उपयोग जरुरी था: प्रधानमंत्री
    भ्रष्टाचार के दीमक को साफ करने के लिये नोटबंदी जैसी बड़े तेज दवाई का उपयोग जरुरी था: प्रधानमंत्री
    'चौकीदार ही चोर' नामक क्राइम थ्रिलर चल रहा है : राहुल
    'चौकीदार ही चोर' नामक क्राइम थ्रिलर चल रहा है : राहुल
    सबरीमला: भगवान अयप्पा मंदिर का दर्शन करने जाते श्रद्धालुगण
    सबरीमला: भगवान अयप्पा मंदिर का दर्शन करने जाते श्रद्धालुगण
    वार्षिक पुष्कर मेले में घुमता एक व्यापारी
    वार्षिक पुष्कर मेले में घुमता एक व्यापारी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • आप ने नोटबंदी की तुलना 9/11 से की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 22:46 HRS IST



नयी दिल्ली, आठ नवम्बर(भाषा) आम आदमी पार्टी ने गुरुवार को नोटबंदी को ‘‘त्रासदी’’ करार देते हुए इसकी तुलना अमेरिका पर हुए आतंकी हमले 9/11 से की। उधर, दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने नोटबंदी के औचित्य पर सवालिया निशान लगाते हुये इसे देश की अर्थव्यवस्था पर ‘‘खुद से दिया गया गहरा घाव’’ करार दिया।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर, 2016 को नोटबंदी की घोषणा की थी, जिसके तहत, उन दिनों प्रचलन में रहे 500 और एक हजार रुपये के नोट तत्काल प्रभाव से चलन से बाहर हो गए थे।

नोटबंदी के ऐलान से नकदी संकट पैदा हो गया और बैंकों में पुराने नोट बदलने के लिए लोगों की लंबी-लंबी कतारें लग गई थीं।

केजरीवाल ने ट्विटर पर कहा, ‘‘ मोदी सरकार के वित्तीय घोटालों की सूची अंतहीन है, नोटबंदी भारतीय अर्थव्यवस्था को खुद से दिये गये गहरे घाव की तरह है। दो साल पूरा होने के बाद भी यह रहस्य बना हुआ है कि देश को इस आपदा में क्यों धकेला गया था।’’

आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा, ‘‘ जैसे 9/11 (अमेरिकी आतंकी हमला) को अमेरिका के इतिहास में दर्दनाक और अत्यंत दुख के दिन के रूप में याद किया जाता है, हम भारतीय 8/11 को हमारी अर्थव्यवस्था को झकझोरने वाली त्रासदी के रूप में याद करते हैं।’’

उन्होंने नोटबंदी को आजाद भारत की ‘‘सबसे बड़ी आर्थिक नाकामी’’ करार दिया और दावा किया कि इसकी वजह से 35 लाख लोगों की नौकरियां गईं जबकि 115 लोगों की लंबी कतारों में मौत हो गई जिसके लिए कोई मुआवजा नहीं दिया गया।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।