21 Nov 2018, 00:58 HRS IST
  • भ्रष्टाचार के दीमक को साफ करने के लिये नोटबंदी जैसी बड़े तेज दवाई का उपयोग जरुरी था: प्रधानमंत्री
    भ्रष्टाचार के दीमक को साफ करने के लिये नोटबंदी जैसी बड़े तेज दवाई का उपयोग जरुरी था: प्रधानमंत्री
    'चौकीदार ही चोर' नामक क्राइम थ्रिलर चल रहा है : राहुल
    'चौकीदार ही चोर' नामक क्राइम थ्रिलर चल रहा है : राहुल
    सबरीमला: भगवान अयप्पा मंदिर का दर्शन करने जाते श्रद्धालुगण
    सबरीमला: भगवान अयप्पा मंदिर का दर्शन करने जाते श्रद्धालुगण
    वार्षिक पुष्कर मेले में घुमता एक व्यापारी
    वार्षिक पुष्कर मेले में घुमता एक व्यापारी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • खतरों का सामना कर रहे शांतिरक्षण मिशन के लिए आईईडी निरोधक संसाधनों की आवश्यकता है: भारत

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:40 HRS IST





(योशिता सिंह)

संयुक्त राष्ट्र, नौ नवम्बर (भाषा) भारत का कहना है कि आईईडी (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) के इस्तेमाल के कारण खतरों का सामना कर रहे संयुक्त राष्ट्र के शांतिरक्षण मिशनों और शिविरों के सुरक्षा बुनियादी ढांचों को मजबूत करने के लिए आईईडी निरोधक दस्ते की आवश्यकता है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन के सैन्य सलाहकार कर्नल संदीप कपूर ने कहा कि शांतिरक्षण कर्मियों पर पिछले चार वर्षों में हुए इन घातक हमलों के एक विश्लेषण के अनुसार कम से कम उनमें से एक चौथाई आईईडी हमलों के कारण हुई हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘आईईडी को निष्क्रिय करने के लिए वैसे तो तमाम कदम उठाए गए हैं लेकिन हमें लगता है कि ऐसे खतरों से निपटने के लिए एक प्रतिबद्ध आईईडी निरोधी दस्ते की जरूरत है। परिसर में सुरक्षा ढांचे का मजबूत करने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत है क्योंकि सुरक्षा शिविरों पर होने वाले सीधे हमलों में हताहतों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है।’’

कपूर ने यहां बुधवार को शांतिरक्षण अभियानों पर सुरक्षा परिषद कार्य समूह में यह बयान दिया।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में