21 Nov 2018, 00:46 HRS IST
  • भ्रष्टाचार के दीमक को साफ करने के लिये नोटबंदी जैसी बड़े तेज दवाई का उपयोग जरुरी था: प्रधानमंत्री
    भ्रष्टाचार के दीमक को साफ करने के लिये नोटबंदी जैसी बड़े तेज दवाई का उपयोग जरुरी था: प्रधानमंत्री
    'चौकीदार ही चोर' नामक क्राइम थ्रिलर चल रहा है : राहुल
    'चौकीदार ही चोर' नामक क्राइम थ्रिलर चल रहा है : राहुल
    सबरीमला: भगवान अयप्पा मंदिर का दर्शन करने जाते श्रद्धालुगण
    सबरीमला: भगवान अयप्पा मंदिर का दर्शन करने जाते श्रद्धालुगण
    वार्षिक पुष्कर मेले में घुमता एक व्यापारी
    वार्षिक पुष्कर मेले में घुमता एक व्यापारी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • संयुक्त राष्ट्र की लैंगिक एजेंसी ने अमेरिकी चुनाव में रिकॉर्डतोड़ महिलाओं की जीत को सराहा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:59 HRS IST



(योशिता सिंह)

संयुक्त राष्ट्र, नौ नवंबर (भाषा) संयुक्त राष्ट्र की लैंगिक समानता एजेंसी ने कहा है कि अमेरिका के मध्यावधि चुनाव में रिकॉर्ड संख्या में महिलाओं का चुनाव लड़ना और जीत हासिल करना अभूतपूर्व है और यह लैंगिक समानता एवं सतत विकास के लक्ष्य को हासिल करने के लिये अहम है।

अमेरिका में प्रतिनिधि सभा एवं सीनेट के लिये मध्यावधि चुनावों में दोनों डेमोक्रेटिक तथा रिपब्लिकन पार्टी से अलग-अलग उम्र, नस्ल, धर्म, लैंगिक रूझान, पृष्ठभूमि और संस्कृतियों की बानगी पेश करतीं कुल 277 महिलाएं चुनाव मैदान में थीं। संयुक्त राष्ट्र की महिलाओं ने इसे एक ‘‘ऐतिहासिक जीत’’ और जश्न मनाने का कारण बताया है।

‘संयुक्त राष्ट्र महिला’ की ओर से गुरुवार को जारी एक बयान के अनुसार, ‘‘नवनिर्वाचित महिलाओं की इस नयी जमात से कांग्रेस में महिलाओं की कुल संख्या 100 से अधिक पहुंच जायेगी। यह रिकॉर्ड है।’’

इसने कहा कि प्रतिनिधि सभा या सीनेट में कार्यभार संभालने वाली महिलाओं की संख्या में 75 प्रतिशत का इजाफा हुआ।

इनमें से कुछ ने तो इतिहास भी रचा है जिनमें प्रतिनिधि सभा में जीत हासिल करने वाली पहली मूल अमेरिकी महिलाएं न्यू मेक्सिको से डेमोक्रेट डेब हालैंड और कंसास से डेमोक्रेट शैरिस डेविड्स शामिल हैं। कंसास राज्य से कांग्रेस पहुंचने वाली शैरिस एलजीबीटी समुदाय से आने वाली ऐसी पहली सदस्य भी हैं।

पहली मुस्लिम महिलाएं मिशिगन से डेमोक्रेट राशिदा तलैब, मिनेसोटा से डेमोक्रेट इलहान उमर ने भी इतिहास रचा।

महज 29 साल की उम्र में न्यूयॉर्क डेमोक्रेट एलेक्जेंड्रिया ओकैशियो-कोर्टेज आम चुनाव जीतने वाली सबसे कम उम्र की महिला बनीं।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में