23 May 2019, 12:11 HRS IST
  • ईवीएम और वीवीपैट के आंकड़ों का 100 फीसदी मिलान करने की मांग वाली याचिका खारिज
    ईवीएम और वीवीपैट के आंकड़ों का 100 फीसदी मिलान करने की मांग वाली याचिका खारिज
    प्रज्ञा ने माफी मांग ली है, लेकिन मैं अपने मन से उन्हें माफ नहीं कर पाऊंगा- मोदी
    प्रज्ञा ने माफी मांग ली है, लेकिन मैं अपने मन से उन्हें माफ नहीं कर पाऊंगा- मोदी
    न्यायालय ने राहुल गांधी के लोकसभा चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध की मांग वाली याचिका खारिज की
    न्यायालय ने राहुल गांधी के लोकसभा चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध की मांग वाली याचिका खारिज की
    पांचवें चरण में 51 लोकसभा सीटों पर मतदान जारी
    पांचवें चरण में 51 लोकसभा सीटों पर मतदान जारी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • थाईलैंड में फर्जी विवाह घोटाले को लेकर 10 भारतीय पुरुष और 24 महिलाएं गिरफ्तार

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:42 HRS IST



बैंकाक, पांच दिसंबर (भाषा) थाईलैंड में अपने कथित जीवनसाथी का वीजा बढ़ाने के लक्ष्य से फर्जी शादियां कराने के आरोप में दस भारतीय व्यक्तियों और 24 थाई महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है।

द नेशन अखबार ने मंगलवार को खबर दी है कि इस मामले में कम से कम 20 अन्य भारतीय व्यक्ति और छह थाई महिलाएं फरार बतायी जा रही हैं।

इस अखबार के मुताबिक ये गिरफ्तारियां देश में अवैध तरीके से रह रहे विदेशियों पर आव्रजन पुलिस ब्यूरो द्वारा शुरु की गयी कार्रवाई का हिस्सा हैं।

पुलिस ने कहा कि ये संदिग्ध उन 30 भारतीय व्यक्तियों और 30 थाई महिलाओं में से हैं जिनके विरुद्ध अदालत ने सरकारी दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा करने, सरकारी अधिकारियों के समक्ष फर्जी दस्तावेज पेश करने और गलत सूचना देने को लेकर गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। इन लोगों के ऐसा करने से अन्य को नुकसान हो सकता है।

बैंकाक के आव्रजन पुलिस ब्यूरो 1 ने 30 पुरुषों और 30 महिलाओं के बीच फर्जी शादियों का पता लगाया था। इन शादियों के संदर्भ में पुरुषों का वीजा बढ़ाने के लिए गलत दस्तावेज पेश किये गये। ये व्यक्ति अवैध साहूकारों, कपड़े और इलेक्ट्रिकल उपकरणों जैसी किस्तों पर ली जाने वाली चीजों के सेल्समैन के रूप में रहने लगे।

पुलिस के मुताबिक 30 महिलाएं कथित रूप से इस मिलीभगत में शामिल थीं और उन्हें इन फर्जी शादियों के पंजीकरण के संदर्भ में 500-5000 बहट तक कथित रूप से मिले।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में