16 Dec 2018, 02:30 HRS IST
  • म्यामांर के दौरे पर राष्ट्रपति रामनाथ काेविंद
    म्यामांर के दौरे पर राष्ट्रपति रामनाथ काेविंद
    शिमला में बर्फबारी का एक नजारा
    शिमला में बर्फबारी का एक नजारा
    मुंबई में एक कार्यक्रम में तिब्बती धर्मगुरू दलाई लामा
    मुंबई में एक कार्यक्रम में तिब्बती धर्मगुरू दलाई लामा
    संसद के मानसून सत्र शुरू हुआ
    संसद के मानसून सत्र शुरू हुआ
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • आरबीआई का अर्थव्यवस्था के बारे में आकलन सरकार की सोच के अनुरूप

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 21:50 HRS IST

नयी दिल्ली, पांच दिसंबर (भाषा) वित्त मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) का आर्थिक वृद्धि तथा मुद्रास्फीत के बारे में आकलन सरकार की सोच के अनुरूप है।

आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल की अध्यक्षता वाली मौद्रिक नीति समिति ने प्रमुख नीतिगत दर को यथावत रखा है। समिति ने चालू वित्त वर्ष के लिये जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) की वृद्धि के अनुमान को 7.4 प्रतिशत पर बरकरार रखा है। साथ ही मध्यम अवधि में महंगाई दर 4 प्रतिशत के लक्ष्य से कम रहने की संभावना जतायी है।

आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने एक बयान में कहा, ‘‘एमपीसी की वृद्धि और मुद्रास्फीति परिदृश्य को लेकर रिजर्व बैंक का आकलन सरकार के आकलन के अनुरूप है।’’
उन्होंने कहा कि सरकार एमपीसी के आकलन का स्वागत करती है।

आरबीआई ने सांविधिक तरलता अनुपात (एसएएलआर) 19.5 प्रतिशत से कम कर 18 प्रतिशत करने का निर्णय किया है। यह जनवरी 2019 से छह तिमाहियों में किस्तों में लागू होगा। इसके तहत बैंकों को कोष का एक हिस्सा अनिवार्य रूप से सरकारी प्रतिभूतियों में लगाना होता है।

गर्ग ने कहा कि सरकारी प्रतिभूतियों पर इसका कुछ प्रभाव पड़ेगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में