27 Mar 2019, 01:58 HRS IST
  • विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने  अपने घर में मनायी होली
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने अपने घर में मनायी होली
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • खशोगी की हत्या के 100 दिन गुजरने पर अमेरिकी सांसदों ने शोक कार्यक्रम आयोजित किया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 10:43 HRS IST



वॉशिंगटन, 11 जनवरी (एएफपी) अमेरिका की दोनों पार्टियों - रिपब्लिकन एवं डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों, दिवंगत पत्रकार जमाल खशोगी के दोस्तों और प्रेस स्वतंत्रता की वकालत करने वाले समूहों ने खशोगी की हत्या के 100 दिन गुजर जाने पर बृहस्पतिवार को शोक कार्यक्रम का आयोजन किया।

अमेरिकी झंडों के आगे खशोगी का चित्र रख कर कुछ देर का मौन रखने के साथ कार्यक्रम शुरू हुआ।

सदन की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने वॉशिंगटन में आयोजित कार्यक्रम के दौरान कहा, ‘‘खशोगी की हत्या मानवता पर अत्याचार एवं उसका अपमान है।”

अमेरिका में रहते हुए वॉशिंगटन पोस्ट के लिए काम करने वाले खशोगी की अक्टूबर में इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास में हत्या कर दी गई थी। वहां वह अपनी शादी को लेकर दस्तावेजों संबंधी औपचारिकता पूरी करने के लिए गए थे।

खशोगी की मौत पर सऊदी अरब को लेकर ट्रंप के रुख पर पूरे राजनीतिक खेमे में आक्रोश देखने को मिला था।

पेलोसी ने कहा, “अगर हम यह तय करते हैं कि व्यावसायिक हित हमारे बयानों एवं कदमों के विरुद्ध चले जाते हैं तो हमें यह स्वीकार करना ही होगा कि हमने किसी भी तरह के कहीं भी, किसी भी वक्त हो रहे अत्याचार के बारे में बात करने की सारी नैतिक जिम्मेदारी खो दी है।”

समाचारपत्र के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) फ्रेड रयान ने कहा कि खशोगी की मौत ने, “वाशिंगटन पोस्ट के सहयोगियों को बहुत गहरे तक छुआ है।”

उन्होंने कहा, “जमाल की हत्या प्रेस स्वतंत्रता के खिलाफ बढ़ रहे हमलों का हिस्सा है जिन्हें दुनिया भर के अत्याचारी अंजाम दे रहे हैं।”

एएफपी

नेहा वैभव अर्पणा अर्पणा 1101 1038 वॉशिंगटन

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।