20 Jul 2019, 08:34 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अदालत चौटाला को धनशोधन मामले में जमानत दी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 21:13 HRS IST



नयी दिल्ली, 11 जनवरी (भाषा) दिल्ली की एक अदालत ने छह करोड़ रुपये से अधिक के धनशोधन मामले हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला को शुक्रवार को जमानत दे दी। अदालत ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय ने अपनी जांच के दौरान उन्हें गिरफ्तार नहीं किया।

विशेष न्यायाधीश कामिनी लाउ ने चौटाला की अर्जी पर उन्हें राहत प्रदान की। वह अदालत के समक्ष पेश हुए थे। अदालत ने उन्हें आरोपी के तौर पर तलब किया था। प्रवर्तन निदेशालय ने आरोपपत्र में उन्हें आरोपी बनाया है।

अदालत ने उन्हें पांच लाख रुपये के निजी मुचलके और उतनी ही राशि की जमानत भरने का निर्देश दिया। हालांकि अदालत ने उन पर पासपोर्ट जमा करने समेत कई शर्तें भी लगायीं।

अपनी अर्जी में चौटाला ने कहा कि उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की जरुरत नहीं है क्योंकि स्वयं एजेंसी ने उन्हें गिरफ्तार करने का फैसला नहीं किया।

चौटाला की अर्जी का ईडी के विशेष वकील एन के मट्टा ने विरोध किया। मट्टा ने कहा कि इस बात का पता लगाने के लिए आरोपी की और जांच की जरुरत है कि धन कहां-कहां और किन किन हाथों से गुजरा तथा अन्य लाभार्थी कौन हैं।

चौटाला फिलहाल शिक्षक भर्ती घोटाला से जुड़े एक अन्य मामले में दस साल की कैद की सजा काट रहे हैं।

अंतिम रिपोर्ट में चौटाला पर धनशोधन रोकथाम अधिनियम की धाराएं तीन और चार के तहत मुकदमा चलाने की मांग की गयी है। ईडी ने अदालत को बताया कि चौटाला ने मई, 1993 और मई, 2006 के बीच 6.09 करोड़ रुपये की आय से ज्ञात स्रोत से अधिक संपत्ति अवैध रुप से अर्जित की और इस संपत्ति को निर्माण एवं चल संपत्तियां बनाने में उपयोग कर वैध संपत्ति के रुप में पेश किया।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।