20 Jul 2019, 09:9 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • उत्तर कोरिया में मानवाधिकारों की ‘अत्यंत गंभीर’ स्थिति : संरा विशेषज्ञ

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:29 HRS IST



(योशिता सिंह)



संयुक्त राष्ट्र, 12 जनवरी (भाषा) संयुक्त राष्ट्र द्वारा नियुक्त एक वरिष्ठ विशेषज्ञ ने कहा कि उत्तर कोरिया में मानवाधिकारों की स्थिति ‘‘अत्यंत गंभीर’’ बनी हुई है और परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए उठ रही अंतरराष्ट्रीय मांगों के साथ यह स्थिति आने वाले साल के लिए भी बड़ी चुनौती होगी।



उत्तर कोरिया में मानवाधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत टॉमस क्विंटाना दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल में एक संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे।



उन्होंने कहा, ‘‘मैंने इस अभियान के दौरान हाल ही में उत्तर कोरिया छोड़ने वाले लोगों का साक्षात्कार किया। हर व्यक्ति ने बताया कि आम लोगों का शोषण किया जा रहा है मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन किया जा रहा है जैसे कि विकास के नाम पर उन्हें मजबूरन विस्थापित किया जाना।’’



उन्होंने कहा, ‘‘मुझे बच्चों समेत उन लोगों की कहानियां बताई गई जिनसे कई घंटों तक मजदूरी कराई गई, उन्हें बिना पारिश्रमिक के काम करने के लिए मजबूर किया गया। एक व्यक्ति ने कहा कि पूरा देश कारावास है।’’



क्विंटाना ने कहा कि निगरानी और आम लोगों की करीबी निगरानी उत्तर कोरिया में जिंदगी की एक सच्चाई है। साथ ही मौलिक आजादी पर भी पाबंदियां हैं।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।