20 Jul 2019, 09:8 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • नए राहत पैकेज के लिए आईएमएफ से समझौता नहीं करेगा पाकिस्तान, विकल्पों पर कर रहा विचार : वित्तमंत्री

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 18:59 HRS IST



कराची, 12 जनवरी (भाषा) पाकिस्तान के वित्त मंत्री असद उमर ने शनिवार को कहा कि पाकिस्तान किसी नए राहत पैकेज के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से संपर्क नहीं करेगा, बल्कि अपने आर्थिक संकट से उबरने के लिए वह अन्य विकल्पों पर विचार कर रहा है।

उमर ने कराची चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री में कारोबारियों के साथ चर्चा के दौरान यह बात कही।

उमर ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार ने निर्णय किया है कि वह आईएमएफ के साथ किसी नए राहत पैकेज का समझौता नहीं करेगी बल्कि पाकिस्तान की लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाने के लिए वह अन्य संभावित विकल्पों पर काम कर रही है।

भुगतान संतुलन के संकट से जूझ रही पाकिस्तान सरकार आईएमएफ के साथ आठ अरब डॉलर के राहत पैकेज पर बातचीत कर रही थी।

सरकार ने आर्थिक मदद के लिए सऊदी अरब, चीन और संयुक्त अरब अमीरात जैसे पाकिस्तान के ‘मित्र देशों’ के साथ भी संपर्क किया है।

उमर ने कहा कि सरकार आईएमएफ के साथ किसी नए राहत पैकेज का समझौता नहीं करेगी क्योंकि यह देश के लिए कड़ी आर्थिक शर्तें लेकर आएगा।

उन्होंने कहा कि सरकार 23 जनवरी को एक छोटा बजट पेश करेगी। वह लाहौर और कराची में कारोबारियों से बातचीत कर रहे हैं ताकि वित्त विधेयक में संशोधन किया जा सके। यह संशोधन कारोबारियों को अधिक सुविधाएं प्रदान करेगा।

उमर ने इशारा किया कि यह विधेयक पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज के लिए कुछ ‘खुशखबरी’ लेकर आएगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में