22 Apr 2019, 23:54 HRS IST
  • नामांकन दाखिल करने से पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी, हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के साथ विजय चिह्न दिखाते हुये
    नामांकन दाखिल करने से पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी, हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के साथ विजय चिह्न दिखाते हुये
    बैसाखी उत्सव में स्वर्ण मंदिर के सरोवर डुबकी लगाते श्रद्धालु
    बैसाखी उत्सव में स्वर्ण मंदिर के सरोवर डुबकी लगाते श्रद्धालु
    रंगोली बीहू उत्सव में बीहू नृत्य करते कलाकार
    रंगोली बीहू उत्सव में बीहू नृत्य करते कलाकार
    बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर श्रद्धांजलि देते राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री
    बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर श्रद्धांजलि देते राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कतर ने की प्राकृतिक गैस को जीएसटी के दायरे में लाने की मांग

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:48 HRS IST

ग्रेटर नोएडा, उत्तर प्रदेश, 10 फरवरी (भाषा) देश को तरल प्राकृतिक गैस (एलएनजी) की सर्वाधिक आपूर्ति करने वाले देश कतर ने रविवार को केंद्र सरकार से प्राकृतिक गैस को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाने का अनुरोध किया।

कतर ने कहा कि इससे भारत की ऊर्जा मांग में उसे अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने तथा पर्यावरण के अनुकूल इस ईंधन की आपूर्ति बढ़ाने में मदद मिलेगी।

कतर गैस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी खालिद बिन खलीफा अल-थानी ने यहां पेट्रोटेक सम्मेलन में कहा कि भारत कतर के लिये काफी महत्वपूर्ण बाजार है।

उन्होंने कहा, ‘‘यदि विश्व में कहीं मांग में परिवर्तन होता है तो हमें लगता है कि विशेषकर जीवाश्म ईंधन के संबंध में यह भारत में होगा।’’

उन्होंने कहा कि भारत को बुनियादी संरचना विकसित करने की आवश्यकता है ताकि देश के हर हिस्से में स्वच्छ ईंधन पहुंचाया जा सके।

अल-थानी ने कहा, ‘‘एलएनजी को जीएसटी के सारे फायदे मिलने चाहिये। हम इस बाबत सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे।’’

कतर से पहले रूस की कंपनी रोसनेफ्ट ने भी पिछले साल अक्टूबर में देश की कराधान नीति की आलोचना की थी। उसने कहा था कि भारत में उसकी विस्तार योजनाओं के समक्ष यह बड़ी अड़चन है।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।