17 Aug 2019, 16:6 HRS IST
  • सोनिया गांधी बनाई गईं कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष
    सोनिया गांधी बनाई गईं कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष
    साढ़े चार घंटे देरी से दिल्ली पहुंची समझौता एक्सप्रेस
    साढ़े चार घंटे देरी से दिल्ली पहुंची समझौता एक्सप्रेस
    संविधान के अनुच्छेद 370 पर राष्ट्रपति के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती
    संविधान के अनुच्छेद 370 पर राष्ट्रपति के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती
    कर्नाटक भाजपा प्रमुख येदियुरप्पा चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे
    कर्नाटक भाजपा प्रमुख येदियुरप्पा चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतारे जाने से बड़ा हैरान था: शंकर

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 21:3 HRS IST

हैमिल्टन, 10 फरवरी (भाषा) भारत के आल राउंडर वजय शंकर ने रविवार को कहा कि तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतारा जाना उनके लिये हैरानी भरा था और आस्ट्रेलिया व न्यूजीलैंड के पहले दौरे के बाद वह काफी सुधरे क्रिकेटर के तौर पर स्वदेश लौटेंगे।



शंकर ने न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में से दो में तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी की। उन्होंने अंतिम मैच में 28 गेंद में 43 और श्रृंखला के पहले मैच में 23 रन बनाये।



उन्होंने वनडे में पदार्पण आस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में किया था और न्यूजीलैंड के खिलाफ वह पांच वनडे में से तीन में और सभी टी20 मैचों में खेले थे। 28 साल के खिलाड़ी ने हालांकि विश्व कप स्थान के लिये दावेदारी बनाने के लिये मजबूत प्रदर्शन भले ही नहीं किया हो लेकिन उन्होंने अपनी हरफनमौला काबिलियत से प्रभावित किया।



शंकर ने कहा कि वह बल्लेबाजी क्रम में ऊपर खेलना पसंद करेंगे। उन्होंने तीसरे टी20 में चार रन की हार के बाद कहा, ‘‘यह मेरे लिये बहुत हैरानी की बात थी, जब उन्होंने मुझे तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये कहा। यह बड़ी चीज है। मैं इस स्थिति में खेलने के लिये तैयार था। अगर आप भारत जैसी टीम के लिये खेल रहे हो तो आपको हर चीज के लिये तैयार रहना चाहिए। ’’



उन्होंने कहा, ‘‘आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ इन दोनों श्रृंखलाओं से मैंने काफी कुछ सीखा। मैंने भले ही ज्यादा गेंदबाजी नहीं की हो लेकिन मैंने विभिन्न हालात में गेंदबाजी करना सीखा। बल्लेबाजी में विराट कोहली, रोहित शर्मा और महेंद्र सिंह धोनी जैसे सीनियर खिलाड़ियों को देखने से मैंने काफी कुछ सीखा। ’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।