25 Mar 2019, 21:58 HRS IST
  • विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    विपक्ष आतंकवाद के समर्थकों की शरणस्थली है - मोदी
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने  अपने घर में मनायी होली
    वृंदावन:भाजपा सांसद हेमामालिनी ने अपने घर में मनायी होली
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    हावड़ा : मंदिर के प्रांगण में होली खेलते श्रद्धालु
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
    अहमदाबाद : रंगों में सराबोर एक लड़की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • करतारपुर गलियारे पर पहली बैठक ‘‘सार्थक’’ : पाकिस्तान

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:51 HRS IST

(सज्जाद हुसैन)



इस्लामाबाद, 14 मार्च (भाषा) करतारपुर गलियारा बनाने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देने के उद्देश्य से भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों के बीच बृहस्पतिवार को पहली बैठक ‘‘सार्थक’’ रही और ‘सौहार्दपूर्ण वातावरण’ में बातचीत हुई। विदेश कार्यालय ने यह कहा है।



भारत और पाकिस्तान पिछले साल करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत के गुरदासपुर जिले में स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से जोड़ने के लिए गलियारा बनाने को सहमत हुए थे। सिख पंथ के संस्थापक गुरु नानक देवजी ने करतारपुर में अंतिम समय बिताया था।



बैठक अटारी-बाघा सीमा पर भारतीय क्षेत्र में हुई। पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत,पाकिस्तान के रिश्तों में बढ़े तनाव के बीच यह बैठक हुई है ।



पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख और विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने बैठक के बारे में बताया कि वार्ता सार्थक रही ।



उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘सौहार्दपूर्ण वातावरण में चर्चा के बाद पाकिस्तान का प्रतिनिधिमंडल वापस आया।’’



फैसल ने उल्लेख किया, ‘‘लंबे समय बाद पाकिस्तान, भारत का संयुक्त तौर पर पहला प्रेस वक्तव्य।’’



बातचीत के बाद जारी संयुक्त वक्तव्य में कहा गया कि दोनों पक्षों ने परियोजना के विभिन्न पहलुओं और प्रावधानों को लेकर विस्तृत और रचनात्मक बातचीत की और करतारपुर साहिब गलियारे को जल्द चालू करने की दिशा में काम करने पर सहमति जताई।



प्रस्तावित गलियारे को लेकर दोनों ओर से तकनीकी विशेषज्ञों की भी चर्चा हुई ।



बयान के अनुसार दो अप्रैल को अगली बैठक वाघा में आयोजित करने पर सहमति बनी और इससे पहले 19 मार्च को प्रस्तावित जीरो प्वाइंट पर तकनीकी विशेषज्ञों की बैठक होगी, जिसमें गलियारे के एलाइनमेंट को अंतिम रूप दिया जाएगा।



पिछले साल नवंबर में भारत और पाकिस्तान ऐतिहासिक गुरुद्वारा दरबार साहिब को गुरदासपुर स्थित डेरा बाबा नानक से जोड़ने के लिए करतारपुर गलियारे का निर्माण करने पर सहमत हुए थे। गुरुद्वारा दरबार साहिब में सिख पंथ के संस्थापक गुरु नानकदेव ने अपना अंतिम समय व्यतीत किया था।



करतारपुर साहिब पाकिस्तान में पंजाब के नरोवाल जिले में है। रावी नदी के दूसरी ओर स्थित करतारपुर साहिब की डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से दूरी करीब चार किलोमीटर है।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।