27 Jun 2019, 03:38 HRS IST
  • न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अस्पताल आने वालों से मतदान करने का अनुरोध

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:12 HRS IST

जगदलपुर, 25 मार्च :भाषा: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र के सरकारी अस्पतालों में मरीजों के इलाज के साथ ही उनसे मतदान करने का भी अनुरोध किया जा रहा है।

नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र में रहने वाली 30 वर्षीय संगीता जिले के शासकीय अस्पताल में इलाज के लिए आईं। अस्पताल में चिकित्सकों ने उसकी जांच की और दवाई की पर्ची दी। लेकिन यह पर्ची आम पर्ची नहीं है क्योंकि इसमें दवाई के साथ ही मतदान करने की अपील भी की गई है। पर्ची में लिखा है 'वोट जरूर दें। मताधिकार का प्रयोग करें।' आदिवासी बाहुल्य बस्तर लोकसभा सीट के लिए प्रथम चरण में 11 अप्रैल को मतदान होना है। अस्पताल में मिली पर्ची में मतदान की तारीख भी अंकित है।

बस्तर क्षेत्र में मतदाताओं को मतदान के लिए जागरूक करने के लिए निर्वाचन आयोग ने अनुठी पहल शुरू की है।



बस्तर जिले के कलेक्टर अयाज तंबोली बताते हैं कि लोकसभा चुनाव में मतदाताओं को मतदान के लिए जागरूक करने के लिए जिले में सिस्टमेटिक वोटर्स एजुकेशन एंड इलेक्टोरल पार्टिशिपेशन :स्वीप: कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत पिछले एक हफ्ते से जिले के सभी प्राथमिक, सामुदायिक समेत सभी सरकारी अस्पतालों में मतदाताओं को जागरूक किया जा रहा है।



तंबोली ने बताया कि इस कार्यक्रम के तहत अस्पतालों में इलाज के लिए बाह्य रोगी विभाग में आने वाले मरीजों को दी जा रही पर्ची में 'वोट जरूर दें। अपने मताधिकार का प्रयोग करें।' जैसे संदेश भी दिया जा रहा है।



बस्तर जिले के कलेक्टर कहते हैं कि जिले के अस्पतालों में रोजाना बड़ी संख्या में मरीज आते हैं। हम चाहते हैं कि लोग मतदान में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें और अपने मताधिकार का प्रयोग करें। मतदान जागरूकता अभियान के तहत बड़ी संख्या में लोगों को आकर्षित करने के लिए यह प्रयोग किया जा रहा है।



तंबोली कहते हैं कि इस संदेश के माध्यम से लोगों को और खासकर अंदरूनी क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासियों को मतदान की तारीख याद रखने में मदद मिलेगी।



कलेक्टर बताते हैं कि नक्सल समस्या से प्रभावित इस क्षेत्र में शांतिपूर्वक चुनाव कराने के लिए विभिन्न उपाए किए जा रहे हैं। जिससे यहां के मतदाता बगैर किसी भय के अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें। क्षेत्र में नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार करने की घोषणा की है। लेकिन चुनाव आयोग ने भी क्षेत्र में शांतिपूर्वक चुनाव संपन्न कराने के लिए कमर कस ली है।



जिले के पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बस्तर संभाग के अंदरूनी इलाकों से लोगों को चुनाव का बहिष्कार करने की धमकी देने वाला माओवादी पोस्टर और पर्चा बरामद किया गया है।



पुलिस अधिकारियों ने बताया कि क्षेत्र में शांतिपूर्वक मतदान कराने के उपाए किए जा रहे हैं। साथ ही चुनाव प्रक्रिया को बाधित करने के माओवादियों के प्रयासों को विफल करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।



उन्होंने बताया कि क्षेत्र में अर्धसैनिक बलों और राज्य की पुलिस को बड़ी संख्या में तैनात किया गया है। क्षेत्र में चुनाव से पहले नक्सल विरोधी अभियान तेज कर दिया है। सुरक्षा बलों से कहा गया है कि वह जंगल में गश्त के दौरान अतिरिक्त सावधानी बरतें।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।