27 Jun 2019, 03:29 HRS IST
  • न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • मलेशिया ने कहा चीन से संशोधित सौदा दिखाता है कि लागत बढ़ी हुई थी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 22:32 HRS IST

कुआलालम्पुर, 15 अप्रैल(एपी) मलेशिया के नए प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने सोमवार को कहा कि देश में रेललाइन बिछाने का जो सौदा चीन के साथ किया था, उसमें अब हुये संशोधन के बाद लागत में आई कमी से पता चलता है कि पूर्ववर्ती सरकार ने इसे बढ़ाचढ़ा कर आंका था।

इस ईस्ट कोस्ट रेल लिंक परियोजना पर उस समय संकट के बादल घिर आये थे जब महातेर का गठबंधन गत मई में सत्ता में आया था और उसने कहा था कि वह इस योजना की समीक्षा करेगा। यह रेल लिंक चीन की महत्वाकांक्षी बेल्ड एडं रोड आधारभूत ढांचे का महत्वपूर्ण हिस्सा है।

उन्होंने कहा कि परियोजना की लागत को 21.5 अरब रिगित (मलेशियाई मुद्रा एवं 5.2 अरब अमेरिकी डॉलर) कम किया जा सकता है। जिससे यह पता चलता है कि पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रज्जाक सरकार ने जो ठेका दिया था उसमें लागत बढ़ाचढ़ा कर दिखाई गई थी।

उन्होंने कहा कि रेल परियोजना की लागत 687 लाख रिगित (167 लाख डॉलर) प्रति किलोमीटर होगी जबकि इससे पहले यह धनराशि 655 लाख रिगित (232 लाख डॉलर) थी।

यह सौदा चीन की सरकारी कंपनी चाइना कम्युनिकेशन कंस्ट्रक्शन कंपनी (सीसीसीसी) लिमिटेड को 2016 में दिया गया था।

गत सप्ताह यह कंपनी परियोजना की लागत एक तिहाई 44 अरब रिगित (107 अरब) कम करने को राजी हो गई थी। कंपनी अब 31 अरब रिगित की वापसी भी करेगी।

यह परियोजना अब 2026 के बजाए 2024 में पूरी की जायेगी।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में