16 Oct 2019, 07:21 HRS IST
  • मामल्लापुरम: भारत और चीन के बीच वार्ता का दृश्य
    मामल्लापुरम: भारत और चीन के बीच वार्ता का दृश्य
    नयी दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग के 14वें वार्षिक सम्मेलन में बोलते गृह मंत्री अमित शाह
    नयी दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग के 14वें वार्षिक सम्मेलन में बोलते गृह मंत्री अमित शाह
    मामल्लापुरम:चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के स्वागत में प्रस्तुति देते कलाकार
    मामल्लापुरम:चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के स्वागत में प्रस्तुति देते कलाकार
    मामल्लापुरम में सुबह का सैर करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    मामल्लापुरम में सुबह का सैर करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • सूडान सेना और प्रदर्शनकारी तीन साल की संक्रमण अवधि पर सहमत

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:43 HRS IST

खारतूम, 15 मई (एएफपी) सूडानी सैन्य शासकों और प्रदर्शनकारी नेताओं के बीच बुधवार को पूर्ण नागरिक प्रशासन को सत्ता हस्तांतरित करने के वास्ते तीन साल की संक्रमण अवधि पर बुधवार को सहमति बनी।

प्रदर्शनकारी असैनिकों के नेतृत्व में सत्ता परिवर्तन चाह रहे हैं। हालांकि, देश पर लंबे समय से शासन करने वाले उमर अल बशीर को सत्ता से बेदखल करने के बाद सत्ता की बागडोर संभालने वाले सैन्य जनरल अभी भी नेतृत्व की भूमिका में हैं।

दोनों पक्षों के बीच वार्ता इस सप्ताह के शुरू में शुरू हुई थी लेकिन वार्ता के बीच ही खार्तूम में सैन्य मुख्यालय के बाहर धरना स्थल पर अज्ञात बंदूकधारियों ने सेना के एक मेजर और पांच प्रदर्शनकारियों को मार दिया था।

दोनों पक्षों ने बुधवार को घोषणा की कि वे एक संक्रमण अवधि पर सहमत हो गए हैं। सैन्य परिषद के सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल यासिर अल अत्ता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम तीन साल की संक्रमण अवधि पर सहमत हो गए हैं।’’

अत्ता ने कहा कि अगली शासन व्यवस्था-‘द सॉवेरिन काउंसिल’ के गठन सहित सत्ता साझा करने के संबंध में अंतिम समझौते पर 24घंटे के अंदर आंदोलनकारी समूह ‘‘अलायन्स फॉर फ्रीडम एंड चेंज’’ के साथ हस्ताक्षर किए जाएंगे।

उन्होंने कहा, ‘‘हम जनता से वादा करते हैं कि समझौता 24 घंटे के अंदर पूरा कर लिया जाएगा और इसे इस प्रकार से तैयार किया जाएगा कि यह जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरे।’’

उन्होंने कहा कि तीन वर्ष के संक्रमण काल में से पहले छह महीने देश के युद्धक्षेत्रों में विद्रोहियों के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए आवंटित किये जाएंगे।

सैन्य जनरल ने शुरू में दो वर्ष की संक्रमण अवधि पर जोर दिया जबकि प्रदर्शनकारी नेता चार वर्ष चाहते थे।

एएफपी अमित दिलीप दिलीप 1505 1742 खारतूम

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में