24 Jul 2019, 07:47 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • करोल बाग अग्निकांड: होटल मालिकों ने लाइसेंस के लिये जाली दस्तावेज दिये थे

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:25 HRS IST

नयी दिल्ली, 15 मई (भाषा) दिल्ली पुलिस ने यहां एक अदालत को बताया कि करोल बाग के अर्पित पैलेस होटल के मालिक गोयल बंधुओं ने होटल चलाने का लाइसेंस लेने के लिये फर्जी दस्तावेज बनाए थे और उनकी “एक मात्र और प्राथमिक” चिंता “लाभ कमाना” और “रुपये बनाना” थी। होटल में फरवरी में लगी आग में 17 लोगों की जान चली गई थी।



अदालत में दिये गए 50 पन्नों के आरोप-पत्र में पुलिस ने राकेश गोयल, उसके भाई शरद इंदु गोयल, होटल के महाप्रबंधक राजेंद्र कुमार और प्रबंधक विकास कुमार के खिलाफ गैर इरादतन हत्या, जालसाजी, धोखाधड़ी और आपराधिक साजिश का मामला दर्ज किया है।



पुलिस ने दावा किया कि गोयल बंधुओं ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम के लोक स्वास्थ्य विभाग से हेल्थ ट्रेड लाइसेंस (एचटीएल), दिल्ली अग्निशमन विभाग से अग्नि सुरक्षा प्रमाणपत्र, दिल्ली पुलिस के लाइसेंसिंग विभाग से अतिथि गृह चलाने के लिये लाइसेंस, पेस्ट कंट्रोल प्रमाणपत्र, रेस्तरां चलाने के लिये लाइसेंस समेत अन्य विभागों से लाइसेंस हासिल करने के लिये जाली दस्तावेज दिये।



हाल में दायर किये गए आरोप पत्र में कहा गया कि होटल अर्पित पैलेस के मालिकों ने झूठे/बढ़ा-चढ़ाकर जानकारी दी और विभिन्न विभागों से लाइसेंस हासिल करने और फिर उनके नवीकरण के लिये जाली दस्तावेज दिये। आरोपियों ने अर्पित होटल की ऊंचाई के तय सीमा (15 मीटर से नीचे) में होने की गलत घोषणा विभिन्न लाइसेंसिंग एजेंसियों से की और उसके आधार पर लाइसेंस हासिल किया था।



इस अग्निकांड के बाद पुलिस ने होटल के महाप्रबंधन राजेंद्र और प्रबंधक विकास को गिरफ्तार किया था।



पुलिस ने कहा कि होटल मालिक शरदेंदु गोयल घटना के बाद से फरार चल रहा है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।